आयुर्वेद के अनुसार उपवास करने के फायदे

आयुर्वेद के अनुसार उपवास करने के फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
आयुर्वेद के अनुसार उपवास करने के फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

भारत की पारंपरिक चिकित्सा की प्राचीन प्रणाली, आयुर्वेद, स्वास्थ्य और कल्याण के लिए समग्र दृष्टिकोण के रूप में उपवास के गहन लाभों को पहचानती है। उपवास, या आयुर्वेदिक शब्दों में "उपवास", न केवल एक शारीरिक विषहरण है, बल्कि मन और आत्मा को फिर से जीवंत करने का एक साधन भी है। आयुर्वेद सुझाव देता है कि उपवास को अपनी जीवनशैली में शामिल करने से शरीर और दिमाग पर कई तरह के सकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार उपवास करने के फायदे (Benefits of fasting according to Ayurveda in hindi)

youtube-cover

विषहरण और पाचन रीसेट

आयुर्वेद पाचन तंत्र को आराम और तरोताजा करने के लिए समय-समय पर उपवास के महत्व पर जोर देता है। उपवास शरीर में संचित विषाक्त पदार्थों (अमा) को खत्म करने में मदद करता है, विषहरण को बढ़ावा देता है और समग्र पाचन क्रिया में सुधार करता है। यह पाचन अग्नि को तेजी से जलने देता है, जिससे पोषक तत्वों का अवशोषण बढ़ता है।

दोषों को संतुलित करना

आयुर्वेद के अनुसार, शरीर तीन दोषों से बना है - वात, पित्त और कफ। उपवास अतिरिक्त को शांत करके और संतुलन बहाल करके इन दोषों को संतुलित करने में मदद करता है। ऐसा माना जाता है कि समय-समय पर उपवास करने से असंतुलन को रोका जा सकता है, शरीर के भीतर सद्भाव को बढ़ावा दिया जा सकता है और विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को रोका जा सकता है।

मानसिक स्पष्टता और फोकस

उपवास का अर्थ केवल भोजन से परहेज़ करना नहीं है, बल्कि संवेदी उत्तेजनाओं से भी परहेज़ करना है। आयुर्वेद सुझाव देता है कि उपवास मानसिक धुंध को दूर करने में मदद करता है और संज्ञानात्मक कार्य को बढ़ाता है। उपवास के दौरान बढ़ी हुई मानसिक स्पष्टता का श्रेय मन की शुद्धि और संचित मानसिक अमा को हटाने को दिया जाता है।

उन्नत अग्नि (पाचन अग्नि)

अग्नि, पाचन अग्नि, कुशल पाचन और पोषक तत्वों के अवशोषण के लिए महत्वपूर्ण है। उपवास अग्नि को अधिक कुशलता से जलाने की अनुमति देकर उसे मजबूत करने में मदद करता है। इससे चयापचय में सुधार, बेहतर पाचन और ऊर्जा के स्तर में वृद्धि हो सकती है।

उन्नत प्राण (जीवन शक्ति ऊर्जा)

आयुर्वेद उपवास को शरीर के भीतर प्राण, जीवन शक्ति ऊर्जा को संरक्षित और पुनर्निर्देशित करने के एक तरीके के रूप में देखता है। अत्यधिक भोजन के सेवन से परहेज करके, शरीर ऊर्जा को उपचार और कायाकल्प की ओर पुनर्निर्देशित कर सकता है, जीवन शक्ति और समग्र कल्याण को बढ़ावा दे सकता है।

भावनात्मक और आध्यात्मिक शुद्धि

उपवास केवल एक शारीरिक अभ्यास नहीं है; इसका भावनात्मक और आध्यात्मिक कल्याण पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है। आयुर्वेद सुझाव देता है कि कुछ खाद्य पदार्थों से परहेज करने से व्यक्तियों को अनुशासन, आत्म-नियंत्रण और अपने आंतरिक स्व के साथ गहरा संबंध विकसित करने की अनुमति मिलती है।

आयुर्वेद में, उपवास को एक समग्र अभ्यास माना जाता है जो शारीरिक स्वास्थ्य से परे, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक कल्याण तक फैला हुआ है। व्यक्तिगत संवैधानिक आवश्यकताओं के अनुरूप उपवास को अपनी दिनचर्या में शामिल करके, आयुर्वेद जीवन के सभी पहलुओं में स्वास्थ्य और सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए एक संतुलित और सचेत दृष्टिकोण की वकालत करता है। किसी भी स्वास्थ्य अभ्यास की तरह, व्यक्तिगत आवश्यकताओं और स्थितियों के अनुरूप उपवास के दृष्टिकोण को तैयार करने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करने की सिफारिश की जाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar