गर्मियों में बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे - Benefits Of Multani Mitti For Hair In Summer In Hindi

गर्मियों में बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
गर्मियों में बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

गर्मियों में त्वचा से ज़्यादा बालों पर ख़राब प्रभाव पड़ता है। गर्मियों में बालों की देख-भाल कठिन हो सकती है पर इस लेख से हम आपको एक ऐसी मिटटी के बारे में बताने जा रहे है जिससे अनेक बालों की समस्याओं को सही किया जा सकता है। मुल्तानी मिटटी (Multani Mitti) बालों के झड़ने, फ्रिजी, ड्राई, ऑइली होने जैसी कई समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। आइये आगे पढ़ें।

गर्मियों में बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी के फायदे - Benefits Of Multani Mitti For Hair In Summer In Hindi

बालों का झड़ना रोकने के लिए (Prevents hairfall)

एक कटोरी में 1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी लें, इसमें 1 चम्मच दही मिलाएं और 1 चम्मच काली मिर्च पाउडर मिलाएं। इसे पानी के साथ मिक्स कर थिक पेस्ट बना लें। ब्रश या हाथों से बालों की जड़ों में इस पेस्ट को लगाएं और आधे घंटे बाद सादे पानी से सिर धो लें और इस पैक का सप्ताह में एक बार इस्तेमाल करें।

रूखे बालों के लिए (For dry hair)

रूखे बालों के लिए आप 1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी में 1 चम्मच तिल का तेल और 1 चम्मच दही मिलाएं। स्कैल्प पर लगाने के 20 मिनट बाद बालों को अच्छे से धो लें। पैक को सप्ताह में 2 बार लगाए।

फ्रिजी बालों के लिए (For frizzy hair)

2 चम्मच मुल्तानी मिट्टी में एक अंडा और 1 चम्मच दही मिलाएं। इसमें 1 चम्मच नारियल का तेल को सभी के साथ अच्छे से मिक्स कर लें। पेस्ट को स्कैल्प पर लगाएं और आधे घंटे बाद सादे पानी से धो लें।

ऑइली स्कैल्प (For oily scalp)

ऑइली स्कैल्प के कारण बालों को चिपचिपा लुक मिलता है जो बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। इस समस्या से निपटने में मुल्तानी मिट्टी का पैक काम आएगा। 4 चम्मच मुल्तानी मिट्टी में 1 नींबू का रस मिलाएं और 20 मिनट के लिए लगाएं। पानी से सिर धोने के बाद बालों को सूखने दें।

रूसी से छुटकारा (Get rid of dandruff)

मुल्तानी मिट्टी के एंटीमाइक्रोबियल गुण होते है। एंटीमाइक्रोबियल यानी फंगल, बैक्टीरिया, वायरस व परजीवियों से सुरक्षा देने वाला। ऐसे में हम मान सकते हैं कि एंटीमाइक्रोबियल के रूप में मुल्तानी मिट्टी रूसी का कारण बनने वाले फंगल (मालासेजिया) के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकती है। यह स्कैल्प को बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण के जोखिम से बचाने में भी मदद कर सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment