Create

चक्कर आने के 7 कारण

चक्कर आने के 7 कारण (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
चक्कर आने के 7 कारण (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

चक्कर आना (dizziness) संवेदनाओं की एक श्रृंखला को संदर्भित करता है, जैसे कि यह महसूस करना कि कमरा घूम रहा है, आँखों के आगे अँधेरा छा जाना और शारीरिक रूप से अस्थिर महसूस करना। चक्कर आने के कई संभावित कारण हो सकते हैं, जो किसी व्यक्ति के बाहरी वातावरण, उनके द्वारा ली जाने वाली दवाओं या किसी अंतर्निहित स्थिति से संबंधित हो सकते हैं। ये लेख चक्कर आने के कारणों (causes of dizziness) पर प्रकाश डालने जा रहा है, इससे जुड़ी जानकारी के लिए लेख को अंत तक पढ़ें।

चक्कर आने के 7 कारण - Chakkar Aane Ke Karann In Hindi

बार-बार चक्कर आना या गंभीर चक्कर आना किसी व्यक्ति के जीवन में महत्वपूर्ण रूप से हस्तक्षेप कर सकता है। हालांकि, यह शायद ही कभी एक चिकित्सा आपातकाल का संकेत देता है। लोगों को निम्नलिखित के बाद चक्कर आ सकते हैं:

  • बहुत तेजी से खड़े होना या बैठना,
  • तेजी से घूमना और
  • उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम में संलग्न होना।

आमतौर पर, लोग चक्कर आने के कारण की पहचान करने में सक्षम होंगे। ये लक्षण बिना किसी स्पष्ट कारण के हो सकते हैं। चक्कर आने के कारण अस्थायी शारीरिक परिवर्तनों से लेकर अधिक गंभीर अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों तक हो सकते हैं, जिनमें से कुछ हमने नीचे बताए हैं।

1. वर्टिगो (Vertigo)

चक्कर आना वर्टिगो या माइग्रेन के कारण हो सकता है। बहुत से लोग "वर्टिगो" और "चक्कर आना" शब्दों का परस्पर उपयोग करते हैं। हालांकि ये स्थितियां समान संवेदनाएं पैदा करती हैं, लेकिन वे थोड़ी अलग हैं। जब किसी को चक्कर आता है, तो वह व्याकुल या अस्त-व्यस्त महसूस कर सकता है। दूसरी ओर वर्टिगो, आंदोलन की कृत्रिम अनुभूति को संदर्भित करता है। वर्टिगो के कारण लोगों को ऐसा महसूस हो सकता है कि उनके आसपास का वातावरण घूम रहा है या झुक रहा है।

2. मोशन सिकनेस (Motion sickness)

कार, हवाई जहाज या नाव जैसे वाहन में होने से दोहराव गति, आंतरिक कान की संरचनाओं को बाधित कर सकती है, जिससे चक्कर आना, मतली व उल्टी हो सकती है। लोग इसे "मोशन सिकनेस" या "सीसिकनेस" कहते हैं। गर्भवती होने या कुछ दवाएं लेने से महिलाओं की गति के प्रति संवेदनशीलता बढ़ सकती है और मोशन सिकनेस का अनुभव होने का खतरा बढ़ सकता है। मोशन सिकनेस के लक्षण आमतौर पर कम हो जाते हैं जब व्यक्ति बराबर ठोस जमीन पर पैर रखता है।

3. माइग्रेन (Migraine)

माइग्रेन एक प्रकार का आवर्ती सिरदर्द है जो सिर के एक तरफ धड़कते या धड़कने वाला दर्द पैदा कर सकता है। अमेरिकन माइग्रेन फाउंडेशन के सर्वे के अनुमान के मुताबिक 30-50% लोगों को माइग्रेन के दौरान चक्कर आने का अनुभव होता है। कभी-कभी, लोगों को माइग्रेन के शुरुआत से पहले चक्कर आने का अनुभव होता है। अन्य तंत्रिका संबंधी लक्षण, माइग्रेन के सिरदर्द के दर्द से पहले हो सकते हैं।

4. ब्लड प्रेशर (Low blood pressure)

ब्लड प्रेशर में तेज गिरावट से सिर में हल्कापन महसूस हो सकता है। बहुत जल्दी बैठने या खड़े होने के बाद ब्लड प्रेशर में परिवर्तन देखा जा सकता है। अन्य स्थितियां जो ब्लड प्रेशर में परिवर्तन का कारण बन सकती हैं उनमें डिहाइड्रेशन, गंभीर एलर्जी प्रतिक्रिया या तीव्रग्राहिता, ब्लड लॉस, गर्भावस्था शामिल हैं। कुछ दवाएं, जैसे कि मूत्रवर्धक, बीटा-ब्लॉकर्स या एंटीडिपेंटेंट्स लेने से भी ब्लड प्रेशर में परिवर्तन हो सकता है।

5. हृदय रोग (Heart disease)

कार्डियोवस्कुलर सिस्टम को प्रभावित करने वाली स्थितियां, जैसे धमनियों में प्लाक का निर्माण और कंजेस्टिव हार्ट फेलियर, चक्कर आ सकता है। दिल का दौरा या स्ट्रोक से पहले या बाद में लोगों को चक्कर आना या हल्कापन महसूस हो सकता है। यदि किसी व्यक्ति को हृदय रोग है, तो उन्हें अन्य लक्षणों का अनुभव होने की संभावना है, जिनमें दिल की अनियमित धड़कन, सांस लेने में कठिनाई, सीने में बेचैनी या जकड़न होना, लगातार खांसी आना, बाहों, पैरों में अतिरिक्त तरल पदार्थ, थकान, मतली और उल्टी शामिल हैं।

6. आयरन की कमी (Low iron)

आयरन की कमी से एनीमिया नामक स्थिति हो सकती है, जिसमें शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन युक्त रक्त नहीं होता है। एनीमिया होने पर चक्कर आना आम बात है।

7. तनाव (Stress)

तनाव और चिंता चक्कर आने के सामान्य लक्षण हैं। तनाव प्रतिक्रिया के दौरान, मस्तिष्क हार्मोन जारी करता है जो श्वसन और हृदय प्रणाली को प्रभावित करता है। ये हार्मोन रक्त वाहिकाओं को संकुचित करते हैं, हृदय गति बढ़ाते हैं और तेजी से, उथले श्वास का कारण बनते हैं। इन प्रतिक्रियाओं से चक्कर आ सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment