Create

गैस और एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के 10 घरेलू उपाय

गैस और एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के 10 घरेलू उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
गैस और एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के 10 घरेलू उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

गैस्ट्रिक समस्याएं जैसे गैस और एसिडिटी एक अत्यंत परेशानी और शर्मनाक समस्या मानी जाती है। भारतीय आबादी के लिए, यह एक सामान्य और रोजमर्रा की समस्या है। एसिडिटी से व्यक्ति कभी भी, कहीं भी पीड़ित हो सकता है। घरेलू उपचार आसान हैं और एसिडिटी या गैस से राहत पाने का सबसे तेज़ तरीका है। आप इस तरह की समस्या को जड़ से ठीक करने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे आजमा सकते हैं।

गैस और एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के 10 घरेलू उपाय - Gas Aur Acidity Ko Jad Se Khatam Karne Ke Gharelu Upay In Hindi

अजवाइन (Ajwain Seeds)

यह भारत में अपच की समस्या के लिए एक प्रसिद्ध घरेलू उपचार है। आप इसे या तो सीधे खा सकते हैं या आप अजवाइन को रात भर भिगोकर सुबह खाली पेट पी सकते हैं। इससे गैस की समस्या से निजात मिलेगी।

जीरे का पानी (Cumin Water)

जीरे के पानी में एंटीस्पास्मोडिक प्रभाव होता है जो पेट की मांसपेशियों के संकुचन में मदद करता है और पाचन रस को बढ़ाकर पाचन में सुधार करता है।

नींबू (Lemon)

नींबू में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेटिव गुण होते हैं जो गैस्ट्रिक समस्याओं के इलाज में मदद करते हैं। एक गिलास पानी में आधा नींबू मिलाकर इस मिश्रण को पी लें। ऐसा आप दिन में एक या दो बार कर सकते हैं।

नारियल पानी (Coconut Water)

यह स्वस्थ पाचन तंत्र के लिए एक बेहतरीन पेय है। नियमित रूप से नारियल पानी पीने से शरीर में इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है और इसी कारण से ही आपका रक्तचाप नियंत्रण में रहता है।

दालचीनी (Cinnamon)

यह शरीर के तापमान को कम करता है और पाचन में सहायता करता है। बहुत सारे लोग इसे वजन घटाने वाली डाइट में शामिल करते हैं। उचित पाचन के लिए दिन में आधा चम्मच पर्याप्त है क्योंकि यह सूजन को भी रोकता है।

दही (Yogurt)

स्वस्थ बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देने और आंत को स्वस्थ रखने के लिए नियमित रूप से दही का सेवन करें। यह पेट की समस्या को दूर रखता है।

हींग (Asafoetida)

यह आंतों के मार्ग में अग्नाशय, गैस्ट्रिक और लार के रस के स्राव में मदद करता है। यह सूजन और पेट फूलना जैसे लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करता है।

सौंफ (Fennel Seeds)

यह विटामिन, मिनरल और फाइबर का संयोजन है जो समग्र पाचन प्रक्रिया में मदद करता है। यह गर्भवती महिलाओं में गैस्ट्रिक समस्याओं का भी इलाज करता है, जो उनमें एक आम समस्या है।

अदरक (Ginger)

अदरक ना केवल खांसी और सर्दी के इलाज में मदद करता है बल्कि अपच की समस्या के लिए भी अच्छा है। यह सूजन को कम करता है और मतली को कम करता है जो अम्लता (acidity) के लक्षण हैं। या तो इसे अपनी चाय में शामिल करें या सीधे इसका सेवन करें।

एलोवेरा जेल (Aloevera)

एलोवेरा में गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं जो गैस्ट्रिक एसिड के स्राव को रोकते हैं। एसिडिटी न हो तो रोजाना 2 बड़े चम्मच ताजा एलोवेरा जेल लें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

comments icon
Fetching more content...