Create

प्रेगनेंसी में गुलकंद खाने के फायदे : Pregnancy Me Gulkand Khane Ke Fayde

प्रेगनेंसी में गुलकंद खाने के फायदे (फोटो - sportskeeda hindi)
प्रेगनेंसी में गुलकंद खाने के फायदे (फोटो - sportskeeda hindi)

आयुर्वेद में गुलकंद का इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता है। गुलकंद गुलाब की पंखुड़ियों का मीठा भंडार है। गर्मियों में इसका सेवन करना काफी फायदेमंद माना जाता है। गुलकंद (Gulkand Benefits in Hindi) खाने से बॉडी की एक्सट्रा गर्मी शांत होती है। गुलकंद खाने से तनाव, थकान में भी आराम मिलता है। इसके अलावा गर्मियों में हाथ-पैरों पर जलन की समस्या को दूर करने के लिए भी गुलकंद का सेवन किया जा सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं प्रेगनेंसी में भी गुलकंद खाना काफी फायदेमंद (Gulkand in Pregnancy) होता है। गुलकंद गर्भावस्था में होने वाली दिक्कतों से बचाता है। अगर आप गर्भवती हैं, तो गुलकंद का सेवन आसानी से कर सकती हैं। चलिए जानते हैं प्रेगनेंसी में गुलकंद खाने से क्या-क्या फायदे (Gulkand ke Fayde in Pregnancy) मिलते हैं।

प्रेगनेंसी में गुलकंद खाने के फायदे : Pregnancy Me Gulkand Khane Ke Fayde In Hindi

कब्ज से छुटकारा (Constipation) - प्रेगनेंसी के समय में महिलाओं को हर दिन किसी न किसी शारीरिक समस्या का सामना करना पड़ता है। इसमें कब्ज की समस्या सबसे आम होती है। लेकिन ऐसे में गुलकंद कब्ज की समस्या को दूर (Gulkand for Constipation in Hindi) करने में फायदेमंद होता है। गुलकंद में मौजूद चीनी की मात्रा आंतों में तरल पदार्थ खींचती है, इससे कब्ज से लड़ने में मदद मिलती है।

शरीर को ठंडा रखे (Cooling) - गुलकंद की तासीर बेहद ठंडी होती है। इसलिए गुलकंद खाने से शरीर को ठंडक मिलती है, साथ ही गुलकंद तेज गर्मी से भी बचाता है। गुलकंद पसीने की प्रणाली को बेहतर ढंग से प्रबंधित करता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को गर्मियों में गुलकंद जरूर खाना चाहिए।

गैस और एसिडिटी से बचाए (for Gastritis) - गर्भवती महिलाओं को कब्ज के साथ ही गैस और एसिडिटी जैसी समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। ऐसे में गुलकंद का उपयोग लाभकारी हो सकता है। गुलकंद का नियमित सेवन करने से पाचन तंत्र में सुधार होता है। इससे पेट की अम्लता, पेट की गर्मी, गैस और एसिडिटी की समस्या दूर होती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment