Create
Notifications

हल्दी दूध के फायदे और नुकसान: Haldi Doodh Ke Fayde Aur Nuksan

फोटो- healthunbox
फोटो- healthunbox
reaction-emoji
Naina Chauhan

हल्दी का दूध सेहत के लिए लाभकारी होता है। हल्दी में प्राकृतिक एंटीबायोटिक गुण होते हैं और और दूध कैल्शियम से भरपूर होता है। हल्दी में करक्यूमिन कंपाउंड यानी पॉलीफेनोल भी होता है, जो आपके शरीर को कई रोगों से बचाने में मदद करता है। जानते हैं हल्दी दूध के क्या फायदे हैं औऱ क्या नुकसान।

इसे भी पढ़ें: चावल खाने के फायदे : Chawal Khane ke Fayde

हल्दी दूध के फायदे-

पाचन सही रहता है- हल्दी के दूध से आंतों को फायदा होता है। इससे पाचन तंत्र मजबूत रहत है। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी इंफ्लेमेटरी गुण की तरह काम करता है, जो आंत संबंधी बीमारियों को दूर करने में शरीर की सहायता करता है।

जोड़ों का दर्द दूर करें- हल्दी दूध में मौजूद करक्यूमिन में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो जोड़ों और गठिया के दर्द को कम करते हैं। वहीं इसके सेवन से अर्थराइटिस में राहत मिलती है साथ ही जोड़ों की सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

वजन घटाने के लिए- जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं तो रोजोना हल्दी दूध का सेवन करें। लोगों की व्यस्त दिनचर्या, बाहर का खाना, लंबे वक्त तक कुर्सी पर बैठे रहना, व्यायाम न करना, तनाव जैसे कई कारणों की वजह से मोटापा बढ़ जाता है।

इसे भी पढ़ें: क्या चावल खाने से गैस बनती है: Kya Chawal Khane Se Gas Bante Hai

हल्दी दूध के नुकसान-

गॉल ब्लेडर में समस्या- अगर किसी के गॉल ब्लेडर में कोई समस्या है तो उन लोगों के लिए हल्दी वाला दूध समस्या को और बढ़ा देगा। वहीं अगर पित्त की थैली में स्टोन है तो ऐसे में हल्दी वाला दूध नहीं पीना चाहिए।

डायबिटीज के रोगियों को- अगर आपको डायबिटीज है तो ऐसे में हल्दी वाला दूध अधिक नहीं पीना चाहिए। क्योंकि हल्दी में मौजूद कम्पाउंड करक्युमिन ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाता है। वहीं अगर आपका शुगर लेवल हाई रहता है तो हल्दी दूध का इस्तेमाल ना ही करें। प्रेग्नेंसी में भी महिलाओं को अधिक हल्दी दूध नहीं पीना चाहिए।

टेस्टोस्टेरॉन के स्तर कम हो सकते है- हल्दी का ज्यादा सेवन टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को कम कर सकता हैं। जिसकी वजह से स्पर्म की सक्रियता में कमी आ जाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

इसे भी पढ़ें: बीपी लो होने के नुकसान: BP Low Hone Ke Nuksan


Edited by Naina Chauhan
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...