Create

मम्प्स का घरेलू इलाज- Mumps ka gharelu Ilaj

इन घरेलू टिप्स की मदद से मम्प्स से पाएं छुटकारा
इन घरेलू टिप्स की मदद से मम्प्स से पाएं छुटकारा
reaction-emoji
Ritu Raj

गलसुआ या कनफेड जिसे हम अंग्रेजी में मम्प्स कहते हैं, यह एक तरह का वायरस के कारण होने वाला रोग है। यह लार के द्वारा फैलने वाला रोग है। गलसुआ का सबसे मुख्य लक्षण लार ग्रंथियों में सूजन होती है। गलसुआ कोई हवा से फैलने वाला रोग नहीं है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में विषाणु की वजह से फैलता है। इसके लक्षण 15 से 20 दिनों के बाद सामने आते हैं। आमतौर पर यह परेशानी बचपन से युवावस्था में होती है, लेकिन इसकी कोई उम्र नहीं है। इसके होने पर गले और गर्दन में असहनीय दर्द से भी गुजरना पड़ता है।

गलसुआ का घरेलू उपचार home remedies to get relief from mumps in Hindi

अदरक (Benefits of ginger in mumps)

अदरक में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं जो सूजन को दूर करने में मदद करते हैं और साथ ही इनमें एंटी वायरल गुण भी होते हैं जिसके कारण दर्द से राहत मिलता है। सूखी अदरक या मुलेठी को पीस कर इसका लेप तैयार कर लें और प्रभावित जगह पर इसे लगाएं। कुछ देर में इससे काफी आराम मिल जाएगा।

एलोवेरा (Use Aloe vera in Mumps)

गलसुआ को ठीक करने के लिए एलोवेरा का उपयोग काफी लाभकारी होगा। इसके लिए प्रभावित जगह पर आधा चम्मच हल्दी के साथ एलोवेरा मिलाकर लगाने से सूजन में काफी राहत मिलेगी।

गर्म पानी और नमक की सिकाई (hot water and salt soak)

गर्म पानी में नमक डालकर सिकाई करने से भी गलसुआ में काफी आराम मिलता है। गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करने से भी राहत मिलती है।

काली मिर्च (Black pepper useful in mumps)

पानी के साथ काली मिर्च के पाउडर को मिला लें और इसे संक्रमित हिस्से पर लगाने से काफी आराम मिलती है।

नमक (Salt effective in mumps)

नमक को एक कपड़े में बांधकर इसे गरम तवे पर हल्का सेंक कर गले की सिकाई करने से सूजन कम होती है और साथ ही दर्द में भी आराम मिलता है।

पका चावल (Benefits of cooked rice in mumps)

पके हुए चावल के गुनगुने मांड में एक चुटकी नमक डालकर इसका सेवन करने से भी गलसुआ में काफी आराम मिलता है। इससे शरीर को पोषण भी मिलेगा, पेट भी भरा रहेगा और गलसुआ में भी लाभ होगा।

मेथी (Use Fenugreek/Methi in Mumps)

मेथी के दानों को पीसकर पाउडर तैयार कर लें और इसका लेप बनाकर प्रभावित जगह पर लगाएं। इसमें एक चुटकी नमक डालकर इसे बेहद हल्का गुनगुना करके लगाने से और ज्यादा फायदा होगा।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Ritu Raj
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...