Create

हृदय रोग के घरेलू उपचार : Home Remedies For Heart Disease 

हृदय रोग के घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
हृदय रोग के घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

हृदय रोग (Heart disease) विभिन्न प्रकार की संरचनात्मक (structural) और कार्यात्मक (functional) समस्याओं को संदर्भित करता है जो हृदय को प्रभावित करते हैं। यह अक्सर एथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis), या धमनी की दीवारों में प्लाक बिल्डअप से संबंधित होता है, जिसके परिणामस्वरूप धमनियों का संकुचन होता है, जिससे रक्त प्रवाह बाधित होता है और दिल का दौरा या स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।

हृदय आपके पूरे जीवन में बिना रुके काम करता है, धड़कता है और शरीर के हर हिस्से में रक्त पंप करता है। यह शरीर के प्रत्येक सेल में ऑक्सीजन, पोषक तत्व और हार्मोन का एक सुव्यवस्थित प्रवाह बनाए रखता है। हृदय तब तक प्रभावी ढंग से काम करता है जब तक कि उसके कामकाज में बाधा डालने वाले अवरोध न हों, जो आपके स्वास्थ्य पर प्रतिबिंबित कर सकते हैं। हृदय रोग के साथ-साथ स्ट्रोक और हृदय रोग दुनिया भर में सबसे अधिक प्रचलित स्वास्थ्य समस्याएं हैं।

हृदय रोग के घरेलू उपचार : Home Remedies For Heart Disease In Hindi

आपका उपचार काफी हद तक आपके हृदय रोग के पीछे के कारण पर निर्भर करेगा। लक्षणों, जोखिम कारकों और आपके चिकित्सा इतिहास को ध्यान में रखते हुए, वैकल्पिक रूप से, डॉक्टर द्वारा निम्न चीज़ों का सुझाव दिया जाता हैं :-

- रक्तचाप कम करने के लिए

- कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए

- खून पतला करने के लिए

- दिल पर दबाव कम करने के लिए

- हृदय को रक्त की आपूर्ति बढ़ाने के लिए

- वह आपके जीवनशैली में बदलाव का सुझाव देंगे।

लाइफस्टाइल चंगेस एंड डिएटरी एडिशन

1. नियमित व्यायाम (Regular exercise)

स्वस्थ आहार के साथ नियमित व्यायाम हृदय रोग को रोकने और प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। चलना, टहलना, साइकिल चलाना, रस्सी कूदना, एरोबिक्स और कार्डियो व्यायाम आपके दिल को मजबूत बनाने, परिसंचरण में सुधार और रक्तचाप को कम करने के लिए विशेष रूप से फायदेमंद हैं।

2. स्वस्थ आहार का पालन करें (Follow a healthy diet)

आप जैसा खाते हैं वैसे ही होते हैं। यह सुनने में भले ही अटपटा लगे, लेकिन यह सभी स्वास्थ्य स्थितियों के लिए सही रहता है। एक स्वस्थ पौष्टिक आहार सूजन को दूर रखने के अलावा आपके वजन, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को सामान्य रखने में मदद कर सकता है। अपने आहार को फलों, सब्जियों, स्वस्थ ओमेगा-3 नट्स, मछली और साबुत अनाज से समृद्ध करें। अल्कोहल और ट्रांस फैट वाले खाद्य पदार्थों से बचें।

3. अपने स्ट्रेस के स्तर को प्रबंधित करें (Manage stress levels)

स्ट्रेस हॉर्मोन इंफ्लेमेटरी रिस्पांस को रोक सकता हैं जिससे संरचनात्मक परिवर्तन हो सकते हैं जो हृदय के कामकाज में बाधा डाल सकते हैं। इसी कारण स्ट्रेस से दूर रहें।

4. रोजाना लहसुन की एक कली चबाएं (Chew garlic daily)

लहसुन को उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर और कोरोनरी हृदय रोग जैसी स्थितियों के लिए फायदेमंद पाया गया है।

5. ग्रीन-टी पिएं (Drink Green-tea)

ग्रीन टी में शक्तिशाली एंटी-ऑक्सिडेंट होते हैं जो कोशिकाओं (cells) के स्वास्थ्य में सुधार करते हैं जो हृदय और रक्त वाहिकाओं की अंदरूनी परत बनाते हैं। ग्रीन-टी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करती है और मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करती है।

6. शराब और धूम्रपान को त्याग दे (Avoid Drinking and Smoking)

हृदय रोगियों के लिए शराब का सेवन, धूम्रपान सख्त तौर पर हानिकारक है।

7. अर्जुन की छाल के पाउडर और शहद के मिश्रण को पिएं (Arjuna Bark Powder and Honey)

एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग हृदय रोगों के लिए किया जाता है। जड़ी बूटी में हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करने, धमनी की भीड़ को कम करने और रक्तचाप को कम करने की क्षमता होती है।

8. मेथी का पानी (Fenugreek seeds water)

मेथी एंटीऑक्सिडेंट और कार्डियोप्रोटेक्टिव गुणों से मान्यता प्राप्त है। यह रक्त लिपिड स्तरों पर इसके संशोधित प्रभाव के कारण, एथेरोस्क्लेरोसिस के जोखिम को कम करने में उत्कृष्ट है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment