रात में होता है मीठा खाने का मन, तो करें इन 4 चीजों का सेवन

रात में होता है मीठा खाने का मन, तो करें इन चीजों का सेवन
रात में होता है मीठा खाने का मन, तो करें इन चीजों का सेवन

अक्सर खाना खाने के बाद मीठा खाने की क्रेविंग होती है और ये क्रेविंग रात में ज्यादातर लोगों को होती है। ये क्रेविंग इतनी ज्यादा होती है कि बिना मीठा खाए आपका मन शांत ही नहीं होगा। जिसके चलते लोग रात में आइसक्रीम, चॉकलेट का सेवन करने लगते हैं, कुछ लोग तो शक्कर भी खाना पसंद करते हैं। लेकिन रात में इस तरह से खाने से चर्बी बढ़ने लगती है जिससे व्यक्ति मोटा हो जाता है। इसके कारण कई तरह की बीमारी आपको जकड़ने लगती है। इसलिए रात में यदि आपको मीठे की क्रेविंग हो रही है, तो इन चीजों का सेवन करें। जो आपके लिए हानिकारक भी नहीं होगा और सेहत पर भी इसका बुरा असर नहीं पड़ेगा। तो आइए जानते हैं आगे के लेख में-

youtube-cover

रात में होता है मीठा खाने का मन, तो करें इन चीजों का सेवन If you feel like eating sweets at night, then consume these 4 things

गुड़ Jaggery - रात में मीठा खाने की क्रेविंग हो रही है, तो गुड़ एक बहुत ही अच्छा विकल्प होता है। दरअसल गुड़ पाचन के लिए बहुत अच्छा स्रोत होता है। इसके सेवन से आपको मीठा खाने की क्रेविंग तो खत्म होगी ही, इसके साथ ही खाने को पचाने में भी ये काफी मददगार साबित होता है।

खजूर Dates - खाना खाने के बाद मीठे में आप खजूर का सेवन भी कर सकते हैं। खजूर में आयरन की मात्रा होती है, जो आपको एनिमिक होने से बचाएगी। इसके अलावा ये मीठा होता है, जिससे मीठे की क्रेविंग को भी खत्म करने में मदद मिलती है। खजूर को नेचुरल स्वीटनर भी कहा जाता है। जिससे मोटापा नहीं बढ़ता और सेहत के लिए इसके फायदे भी होते हैं।

पपीता Papaya - जी हां अगर आपको रात में खाने के बाद क्रेविंग हो रही है, तो आप पपीते का सेवन भी आसानी से कर सकते हैं। पपीता मीठे की क्रेविंग को कम करने के साथ- साथ खाने को पचाने में भी मदद करता है।

शहद Honey - रात में खाना खाने के बाद की क्रेविंग को कम करने के लिए शहद भी एक बहुत अच्छा विकल्प है। शहद के सेवन से किसी भी तरह से आपको नुकसान नहीं होगा। क्योंकि इसमें नेचुरल स्वीटनर होता है। जो सेहत के लिए फायदे ही पहुंचाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Shilki