Create

काले तिल खाने के फायदे- kale til khane ke fayde 

काले तिल खाने के फायदे(फोटो-TV9)
काले तिल खाने के फायदे(फोटो-TV9)

काले तिल (black sesame) का उपयोग लगभग सभी के घरों में होता है। लेकिन क्या आप इसके फायदे जानते हैं। काला तिल हमारे सेहत के लिए काफी लाभकारी माना जाता है। सर्दियों के मौसम में काले तिल का सेवन जरूर करना चाहिए। काले तिल के सेवन से कई बीमारियों से बचा जा सकता है। काले तिल में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, कॉपर, मैंगनीज, फाइबर मौजूद होते हैं।

काले तिल खाने के फायदे( kale til khane ke fayde in hindi)

हड्डियां होती है मजबूत

काले तिल में कैल्शियम(calcium) की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इसलिए यह हड्डियों को मजबूत बनाता है। जिनको जोड़ों के दर्द की शिकायत होती है उनको काले तिल का सेवन जरूर करना चाहिए।

बवासीर से छुटकारा

जिनको बवासीर(piles) की शिकायत होती है उनको काले तिल का सेवन करना चाहिए। इसके लिए थोड़ा सा काला तिल ले लें फिर उसको ठंडे पानी के साथ खा लें। इससे बवासीर की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

कमजोरी होती है दूर

जिन लोगों को कमजोरी (weakness) महसूस होती है। कोई भी काम करने में जल्दी थक जाते हैं उनको काले तिल का सेवन करना चाहिए। क्योंकि तिल में मौजूदा प्रोटीन कमजोरी को दूर करती है।

दांत होते हैं मजबूत

काले तिल को सुबह-सुबह चबा-चबा कर खाने से दांत (teeth) मजबूत होते है। जिनके दांत कमजोर होते हैं या फिर दांत संबंधी कोई भी परेशानी होती है उनको काले तिल का सेवन करना चाहिए।

मानसिक समस्या से छुटकारा

काले तिल में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। जिससे यह तनाव (stress) को कम करने में लाभकारी माने जाते हैं। साथ ही रोजाना थोड़े तिल का सेवन करने से मानसिक समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

दिल संबंधी बीमारी नहीं होती

अगर कोई व्यक्ति रोजाना काले तिल का सेवन करता है तो उसको जल्दी दिल (heart) संबंधी कोई बीमारी नहीं होती है। तिल का सेवन करने के लिए तिल और गुड़ के लड्डू बना सकते हैं।

ब्लड सर्कुलेशन रहता है सही

काले तिल से बने तेल से रोजाना नियमित रूप से मालिश करने से ब्लड सर्कुलेशन(blood circulation) सही रहता है। साथ ही इससे त्वचा को भी लाभ मिलता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Rakshita Srivastava
Be the first one to comment