Create

डायबिटीज में आम के पत्ते खाना हो सकता है फायदेमंद : Diabetes Me Aam Ke Patte Khana Ho Sakta Hai Faydemand

डायबिटीज में आम के पत्ते खाना हो सकता है फायदेमंद (फोटो - sportskeeda hindi)
डायबिटीज में आम के पत्ते खाना हो सकता है फायदेमंद (फोटो - sportskeeda hindi)

आज के समय में ज्यादातर लोग डायबिटीज की चपेट में आ गए हैं। इसके पीछे का कारण लोगों की खराब जीवनशैली है। डायबिटीज (Diabetes) के मरीज को अपने खाने की चीजों का ध्यान रखना जरूरी होता है। जिससे उनका ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Levels) सही रहे। ऐसे में इसी तरह की एक सामग्री या कहें डायबिटीज का नुस्खा है आम के पत्ते (Mango Leaves)। डायबिटीज मैनेजमेंट और शुगर लेवल कम करने में यह पत्ते खासा असर दिखाते हैं। आइए जानें, इन्हें अपनी डाइट का हिस्सा किस तरह बनाया जाए और कैसे सेवन किया जाए।

आपको बता दें, आम के पत्तों में मैंगिफेरिन नमक एक्स्ट्रैक्ट पाया जाता है जो ब्लड ग्लूकोस लेवल (Blood Glucose Level) को कम करने में व्यक्ति की मदद कर सकता है। इसके साथ ही, आम के पत्ते इंसुलिन (Insulin) को बेहतर करने और ग्लूकोस को डिस्ट्रीब्यूट करने में भी लाभकारी हैं। इसलिए इन पत्तों को ब्लड शुगर लेवल्स सामान्य करने के लिए अच्छा माना जाता है। आम के पत्तों में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की बात करें तो ये पेक्टिन, विटामिन सी और फाइबर से भरपूर होते हैं और डायबिटीज व कोलेस्ट्रॉल दोनों ही समस्याओं में खाए जा सकते हैं।

इस तरह करें आम के पत्तों का सेवन -

ब्लड शुगर को कम करने के लिए आम के पत्तों का सेवन किया जा सकता है। डायबिटीज में आम के पत्तों को शामिल करने के लिए आपको 10 से 15 आम के पत्तों (Mango Leaves) को पानी में अच्छे से उबालना होगा। इसके बाद ये पत्ते उबल जाने पर इन पत्तों को पानी में ऐसे ही (जस का तस) छोड़ दें और अगली सुबह छानकर खाली पेट इनका सेवन करें। ऐसा आपको कुछ महीने करना है। इन पत्तों के सेवन से आप अपने शुगर लेवल्स को कई गुना कम होता पाएंगे।

वहीं अगर आप सुबह के समय खाली पेट आम के पत्तों को चबाते हैं तो यह भी सेहत के लिए अच्छा होता है। हालांकि, कच्चे पत्ते कम से कम खाने चाहिए। इसलिए इन्हें उबालकर खाने पर अत्यधिक जोर दिया जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment