नाक में सरसों का तेल डालने के फायदे और नुकसान

नाक में सरसों का तेल डालने के फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeeda hindi)
नाक में सरसों का तेल डालने के फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeeda hindi)

एक समय था जब लोगों खाने से लेकर बालों तर सरसों के तेल का उपयोग करते थे। सरसों का तेल पोषक तत्वों से भरपूर होता है। लेकिन आप चाहें तो सरसों के तेल को नाक में भी डाल सकते हैं। जी हां, नाक में सरसों का तेल डालने से कई फायदे मिलते हैं। बता दें, अगर आप नाक में सरसों का तेल डालते हैं, तो इससे सेहत से जुड़ी छोटी-मोटी कई समस्याएं दूर हो सकती हैं। जिन लोगों को सर्दी-जुकाम, गले की खराश आदि परेशानी है, उनके लिए ये बहुत फायदेमंद होता है। सरसों के तेल में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं, जिससे एलर्जी आदि में भी आराम मिलता है। लेकिन एक बात का ध्यान रहे कि लंबे समय तक सरसों का तेल Mustard Oil नाक में नहीं डालना चाहिए। तो चलिए जानते हैं नाक में सरसों का तेल डालने के फायदे और नुकसान।

नाक में सरसों का तेल डालने के फायदे और नुकसान : Nak Me Sarso Ka Tel Dalne Ke Fayde Aur Nuksan In Hindi

गले की खराश दूर करने के लिए - अगर किसी के गले में खराश हो रखी है तो ऐसे में नाक में सरसों का तेल डालने से इस परेशानी को ठीक करने में मदद मिल सकती है। अगर आपको गले में खराश है, तो आप रात को सोते समय नाक में सरसों का तेल डाल सकते हैं। इससे गले की खराश के साथ ही सूजन में भी आराम मिलता है।

ब्लॉक नाक खोले - जब किसी व्यक्ति को सर्दी-जुकाम cold and cough या कफ की समस्या होती है तो उसकी वजह से नाक ब्लॉक हो जाती है। इस स्थिति को सही करने के लिए आप नाक में सरसों का तेल डाल सकते हैं। रोजाना सुबह-शाम नाक में सरसों का तेल डालने से बंद नाक खुल जाएगी।

अच्छी नींद में फायदेमंद - अगर आपको रात में अच्छी नींद नहीं आती है, तो आप नाक में तेल डाल सकते हैं। नाक में तेल डालने से अनिद्रा की समस्या का इलाज किया जा सकता है। नींद न आने पर आप रात को नाक में सरसों का तेल डाल सकते हैं। इससे नींद काफी अच्छी आती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan