Create

नींद में झटके लगना आम है या नहीं? : Causes Of Shock In Sleep

नींद में झटके लगना आम है या नहीं? (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
नींद में झटके लगना आम है या नहीं? (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

कई लोगो को कभी न कभी ऐसा लगा होगा जैसे हम सोते-सोते गिरने वाले हो या हम नींद में ही संभलने की कोशिश करने लगते हैं। कई लोगों को सोते समय झटका सा महसूस होते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि ऐसा क्यों होता है और इसकी वजहें क्या हैं? क्या ये कोई बीमारी है या फिर सामान्य बात है? आइए जानते हैं:-

नींद में झटके लगना आम है या नहीं? : Causes Of Shock In Sleep In Hindi

इसे 'Hypnic Jerk' या Sleep Starter के नाम से जाना जाता है। यह जगने और सोने के बीच की अवस्था होती है। यह निद्रा और अनिद्रा का संक्रमण काल होता है। ये झटके उस समय महसूस होते हैं जब व्यक्ति हल्की नींद में होता है। आमतौर पर यह घटना सोने के पहले चरण में होती है जब हार्ट रेट और सांस धीरे होने लगती है। रिसर्च के मुताबिक, सोते समय झटके महसूस होना सामान्य बात है। करीब 60 से 70% लोग ऐसा अनुभव करते हैं। कई लोगों को हाइपनिक जर्क लगते हैं लेकिन उन्हें या तो याद नहीं रहता है या फिर पता नहीं चल पाता है।

ये कोई बीमारी नहीं है और ना ही कोई नर्वस सिस्टम डिसऑर्डर (Nervous System Disorder) है। इसे वैज्ञानिक और डॉक्टर्स स्वाभाविक प्रक्रिया ही मानते हैं। लेकिन ऐसा क्यों होता है? कुछ वजह यह भी मानी जाती है :-

सोने की कुछ खास पोजीशन (Certain sleeping positions)

नींद के दौरान कुछ स्थितियों के कारण कशेरुक तंत्रिका पर अस्थायी दबाव डाल सकते हैं, जिससे पीठ, गर्दन या हाथ-पैर में बिजली की तरह छुरा घोंपने की एक श्रृंखला शुरू हो सकती है। कभी-कभी, कुछ लोग उम्र से संबंधित पुरानी पीठ की स्थितियों से पीड़ित हो सकते हैं, जैसे कि स्लिप्ड डिस्क या स्पाइनल स्टेनोसिस, जिसका दर्द क्षैतिज स्थिति में अधिक स्पष्ट हो सकता है।

तनाव और चिंता (Stress and anxiety)

लंबे समय तक तनाव और चिंता नींद के दौरान शरीर में झटके जैसी भावनाओं के ज्ञात का कारण हैं। रात में जब हमारा शरीर रिलैक्स हो जाता है, तो मन बहुत अधिक सोचने और दखल देने वाले विचारों से घिर जाता है। माना जाता है कि उन चिंतित विचारों और भावनाओं को तंत्रिका तंत्र को अधिक सक्रिय करने के लिए माना जाता है, जिससे न्यूरॉन्स के बीच एक गलत संचार होता है और परिणामी झटके लगते हैं।

फ़िब्रोम्यल्गिए (Fibromyalgia)

यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम है और यह अक्सर नींद के दौरान दर्द और बिजली के झटके का कारण बनता है, जो बदले में, नींद के चक्र (Sleep cycles) को परेशान करता है, थकान (Fatigue) को बढ़ाता है, और महिलाओं को अवसाद (Depression), संज्ञानात्मक समस्याओं, तनाव और चिंता से ग्रस्त करता है।

दवाएं (Medications)

डिप्रेशन, चिंता और माइग्रेन के इलाज के लिए कुछ दवाओं को बिजली जैसे झटके, विशेष रूप से सिर में ट्रिगर करने के लिए दिखाया गया है। उनका विच्छेदन भी इस लक्षण को ट्रिगर कर सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, नर्व को उत्तेजित करने वाली दवाओं का ओवरडोज़ हो जाने पर भी हाइपनिक जर्क का खतरा हो सकता है। सोते समय झटके लगना पूरी तरह से सामान्य है लेकिन अगर आप लगातार बेचैनी महसूस करते हैं या फिर अक्सर आपकी नींद इस वजह से टूट रही है तो आप किसी डॉक्टर से परामर्श ले सकते हैं।

उपचार : पर्याप्त पानी पिएं, सोने से पहले कैफीन का सेवन ना करें। सोने से पहले थकान और व्यग्रता बढ़ाने वाले काम ना करें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment