Create
Notifications

रेबीज का आयुर्वेदिक उपचार : Rabies Ka Ayurvedic Upchar 

रेबीज का आयुर्वेदिक उपचार (source - sportskeeda hindi)
रेबीज का आयुर्वेदिक उपचार (source - sportskeeda hindi)
Vineeta Kumar
visit

रेबीज (Rabies) एक संक्रामक रोग है जो रेबीज वायरस के कारण होता है। रेबीज का वायरस कुत्तों से इंसानों में फैलता है। वायरस संक्रमित जानवर की लार में मौजूद होता है। जब कोई संक्रमित कुत्ता आपको काटता है, तो वह अपनी लार के माध्यम से वायरस को आपके शरीर में स्थानांतरित करता है। रेबीज वायरस आमतौर पर केंद्रीय तंत्रिका तंत्र यानी सेंट्रल नर्वस सिस्टम को प्रभावित करता है और मस्तिष्क में सूजन का कारण बनता है। घरेलू कुत्ते, बिल्ली और खरगोश जैसे जानवर के काटने या खरोंच के माध्यम से वायरस को मनुष्यों में ट्रांसफर कर सकते हैं। जंगली जानवर जैसे झालर, रैकून और चमगादड़ भी इस वायरस को इंसानों में फैला सकते हैं। मनुष्यों में रेबीज का इलाज टीकाकरण और प्राकृतिक घरेलू उपचार व आयुर्वेदिक उपचार के माध्यम से उपलब्ध है।

रेबीज का आयुर्वेदिक उपचार : Rabies Ka Ayurvedic Upchar In Hindi

1. अश्वगंधा चूर्ण एक प्रभावी रेबीज उपचार है (Ashwagandha Powder)

लगभग 2 से 5 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण को थोड़े से शहद या घी के साथ सेवन करें। यह आपके दिमाग को शांत रखने और रेबीज के शुरुआती लक्षणों को शांत करने में मदद करेगा। आप पाउडर को रोजाना एक गिलास गर्म दूध के साथ भी ले सकते हैं।

2. जीरा रेबीज के लक्षणों को ठीक करता है (Cumin Powder)

जीरा शरीर में कुछ जहरीले प्रभावों को खत्म करने में फायदेमंद है, इसलिए यह एक प्रभावी रेबीज उपचार साबित होता है। तो, दो चम्मच जीरा को लगभग 20 काली मिर्च के साथ पीस लें। पाउडर में थोडा़ सा पानी डालकर बारीक पेस्ट बना लें, इसे संक्रमित जगह पर लगाएं और इससे रेबीज के घाव तेजी से भरेंगे।

3. स्कलकैप या इचिनेशिया चाय रेबीज का इलाज करती है (Scullcap or Echinacea tea cures rabies)

कुछ चीनी जड़ी बूटी (स्कलकैप) या इचिनेशिया जड़ी बूटी लें और इसे एक कप उबलते पानी में मिलाएं। इसे लगभग 5 मिनट तक पड़े रहने दें, पानी को छान लें और फिर चाय पी लें। यह न केवल आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएगा बल्कि रेबीज के शुरुआती लक्षणों से भी लड़ेगा।

4. संतरे का रस रेबीज के लक्षणों से लड़ने में मदद करता है (Orange Juice for immunity)

संतरे का जूस, आपकी दैनिक खुराक प्रतिरक्षा (immunity) में सुधार करने में मदद करती है। अधिक लाभ के लिए इसमें कुछ काली मिर्च के साथ अनार का रस मिलाएं। यह आपके सिस्टम को मजबूत और रेबीज के किसी भी लक्षण से मुक्त रखेगा।

5. लैवेंडर में औषधीय गुण होते हैं (Lavender Essential Oil)

एक कटोरी में थोडा बर्फीला ठंडा पानी भरें। लैवेंडर एसेंशियल तेल की लगभग 4 से 5 बूँदें डालें और एक नरम तौलिये को मिश्रण वाले ठंडे पानी में भिगो दें। तौलिये से अतिरिक्त पानी निचोड़ें और घाव (animal bite) के ऊपर रखें। यह दर्द के साथ-साथ किसी भी संबंधित सूजन को कम करने में मदद करेगा।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now