Create

शरीर की गर्मी कम करने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खा : Sharir ki Garmi Kam Karne Ke Liye Ayurvedic Nuskha

शरीर की गर्मी कम करने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खा (फोटो - sportskeeda hindi)
शरीर की गर्मी कम करने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खा (फोटो - sportskeeda hindi)

गर्मियों के मौसम में ज्यादातर लोगों के शरीर का तापमान बढ़ जाता है। जिसकी वजह से वह अधिक गर्मी का अनुभव करते हैं। लेकिन क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है कि शरीर का तापमान बढ़ने के क्या कारण हैं (Body Heat causes In Hindi)? ऐसे में हमारे पास एक ऐसा आयुर्वेदिक नुस्खा है (Ayurvedic Recipe To Reduce Body Heat In Hindi) जो आपके शरीर को भीतर से ठंडक पहुंचाने में मदद कर सकता है, और शरीर के बढ़े हुए तापमान को कम कर सकता है। जानत हैं कैसे शरीर के तापमान को कम करने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खे (Ayurvedic Recipe To Reduce Body Heat In Hindi) के बारे में।

शरीर की गर्मी को कम करने के आयुर्वेदिक उपाय ( Ayurvedic Recipes to Reduce Body Heat In Hindi )

शरीर को भीतर से ठंडक पहुंचाने के लिए धनिया और मिश्री का मिश्रण (Body Cooling Ayurvedic Herbs In Hindi) बेहद कारगर साबित हो सकता है। आप इसे घर पर आसानी से बना सकते हैं।

इसके लिए आपको चाहिए....

1 . 8 ग्राम धनिये के बीज लें (पिसे हुए)

2 . 50 ml पानी

3 . स्वाद के लिए मिश्री

कैसे बनाएं इसे -

1 . सबसे पहले एक बर्तन लें और उसमें दोनों सामग्रियों को डालकर अच्छी तरह मिलाएं।

2 . फिर इस मिश्रण को रातभर के लिए ढक कर छोड़ दें।

3 . अगली सुबह इसे छान लें, और इसमें स्वादानुसार मिश्री डालकर इसका आनंद लें।

शरीर में ज्यादा गर्मी के नुकसान (Side Effects Of Excess Body Heat In Hindi)

जब कोई व्यक्ति बाहर धूप या बहुत गर्म स्थान पर ज्यादा समय बिताता हैं खासकर गर्मियों के मौसम में, तो इसकी वजह से आपके स्वास्थ्य को कई तरह से नुकसान पहुंच सकता है। यह शरीर में पित्त को उत्तेजित करता है, जिससे शरीर में बहुत अधिक गर्मी हो जाती है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति का मेटाबॉलिज्म ठीक तरह से काम नहीं करता है, जो शरीर में कई रोगों को जन्म दे सकता है। साथ ही शरीर में अधिक गर्मी के चलते चेहरे पर मुंहासे, सीने में जलन, त्वचा पर चकत्ते और उल्टी दस्त जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment