दूध का छेना खाने का सही समय और इसके 4 फायदे- Dudh Ka Chhena Khane Ka Sahi Samay Aur Iske Fayde

दूध का छेना खाने का सही समय और इसके फायदे (फोटो-Sportskeeda hindi)
दूध का छेना खाने का सही समय और इसके फायदे (फोटो-Sportskeeda hindi)

छेना (Chhena) खाने में बहुत ही स्वादिष्ट लगता है। इसकी कई तरह की मिठाइयां बनाई जाती हैं। खाली छेना का सेवन भी हेल्थ (Health) के लिए बहुत लाभदायक होता है। छेना में मौजूद कई तरह के पोषक तत्व स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। छेना में प्रोटीन, कैबोहाइड्रेड, फैट (Fat), कैल्शियम (Calcium), विटामिन सी, आयरन(Iron), पॉसफोरस, और फाइबर्स आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं। हेल्दी शरीर के लिए छेना का उपयोग रोजाना खाने में करना चाहिए, क्योंकि इससे छेना के सारे पौष्टिक तत्व शरीर को मिल जाता है। आइए जानते हैं छेना खाने का सही समय और फायदे-

छेना खाने का सही समय-

यदि आप कच्चा पनीर (Raw cheese) खाते हैं तो इसका सेवन आपको दोपहर के भोजन से 1 घंटे पहले करना चाहिए। क्योंकि, इससे खाना अधिक खाने से बचा जा सकता है। अगर आप एक्सरसाइज (Exercise) करते हैं तो, इसके कुछ घंटे बाद पनीर का सेवन लाभदायक रहता है। इसके बाद आप रात को सोने से 1 घंटे पहले भी पनीर का सेवन कर सकते हैं और हां एक दिन में 100 ग्राम से अधिक छेना का सेवन नहीं करना चाहिए।

दूध का छेना खाने के फायदे

हड्डियों की मजबूती के लिए (For Bone Strength) छेना में कैल्शियम और फास्फोरस पाया जाता है जो हड्डियों की मजबूती के लिए उपयोगी होते हैं। हड्डियों से संबंधित समस्या ज्यादातर 45 की उम्र के बाद आती है। जैसे कि जोड़ों में दर्द , अर्थराइटिस (athritis), हड्डियों का चटकना आदि। हड्डियों की समस्या से बचने के लिए उन चीजों का सेवन करना चाहिए, जिसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, और फास्फोरस की प्रचुर मात्रा हो।

इम्यूनिटी बढ़ए (Increase Immunity) अगर हम छेना का सेवन रोज करते हैं, तो इसके खाने से शरीर के मेटाबॉलिज्म में सुधार होता है। इसके साथ ही छेना खाने से पाचन में भी सुधार होता है और वसा (Fat) को शरीर में जमने नहीं देता है। छेना खाने से शरीर को एनर्जी मिलती है। छेना लिनोलिक एसिड (Linonik acid) का एक बड़ा स्रोत है जो चर्बी को जलाने में मदद करता है।

प्रेगनेंट महिलाओं के लिए (For pregnant women) गर्भवती महिलाओं को भूख बहुत ज्यादा लगती है जिसके कारण वे भूख को कम करने के लिए पैकेट वाली चीजों का सेवन करती हैं, जो कि बच्चे और मां दोनों की सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसीलिए प्रेगनेंसी के समय यदि महिला को भूख ज्यादा लगती है तो छेना का सेवन करना चाहिए। क्योंकि, छेना खाने से एनर्जी तो मिलती ही है साथ ही पेट भी भरता है।

प्रेगनेंसी के समय महिलाओं का वजन बढ़ता है, जिससे उन्हें जोड़ो में दर्द बढ़ जाता है और इस समस्या को दूर करने के लिए गर्भवती महिलाओं को रोज के खाने में छेना शामिल करना चाहिए।

थकान मिटाए पनीर का सेवन (Consumption of cottage cheese to remove fatigue) पनीर में मौजूद ट्रिप्टोफैन (tryptophan) नामक केमिकल तनाव कम करने में बहुत मदद करता है। आजकल के समय में लोगों को थकान बहुत ज्यादा होने लगी है जिसके चलते काम में मन नहीं लगता और चिड़चिड़ापन होता है। ऐसे में यदि आप खाने में पनीर को शामिल करते हैं, तो इससे स्ट्रेस, थकान बहुत कम हो सकता है। छेना में मौजूद अमीनो एसिड (Amino acids) शरीर को थकान से दूर रखता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।