Create

Pcos के लक्षण और उपाय - Pcos Ke Lakshan Aur Upay

Pcos के लक्षण और उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
Pcos के लक्षण और उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

पीसीओएस (PCOS) पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, यह महिलाओं में होने वाली बीमारियों में से एक है। यह होर्मोनेस के संतुलन (Hormonal Imbalance) बिगड़ने की वजह से होती है। इसमें महिलाओं के शरीर में एंड्रोजेंस के स्तर का लेवल बढ़ जाता है और ओवरी में सिस्ट बनने लगते हैं। यह बीमारी हेरेडिटरी (Hereditary) भी परिवार में दूसरी महिलाओं को हो सकती है। इस लेख में PCOS के लक्षण (Symptoms) और घरेलू उपाय (Home Remedies) बताए गए हैं।

Pcos के लक्षण और उपाय - Pcos Ke Lakshan Aur Upay In Hindi

PCOS के लक्षण : Symptoms Of PCOS In Hindi

अनियमित मासिक धर्म - Pcos होने पर पीरियड्स पर सबसे ज़्यादा फरक पड़ता है। ऐसा होने पर मासिक चक्र अनियमित हो सकता है। कई मामलों में महीनो तक पीरियड्स नहीं होते। पीरियड्स ना आने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

हैवी ब्लीडिंग - महिलाओं को पीरियड्स के दौरान सामान्य से अधिक मात्रा में ब्लीडिंग हो सकती है।

अनचाहे बालों का होना - इस बीमारी में अनचाही जगहों पर बाल आ सकते हैं , जैसे कि चेहरे पर, सीने पर, पीठ पर।

त्वचा संबंधी कोई समस्या - इस बीमारी में महिलाओं के शरीर में टेस्टेस्टरोने हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है और इसी कारण से शरीर में अलग बदलाव आ जाते हैं जिनमें से मुंहासे होना भी एक है।

वजन का जल्दी बढ़ना - इस बीमारी में वजन अचानक ही बढ़ने लगता है और लोग मोटापे का शिकार हो सकते हैं।

चिड़चिड़ापन - Pcos की समस्या में महिलाओं को चिड़चिड़ापन हो सकता है।

नींद ना आने की समस्या - इस बीमारी में नींद ना आने की बीमारी (Insomnia) भी हो जाती है। सोने के बाद भी थकान महसूस होती है।

PCOS के घरेलू उपाय : Home Remedies For PCOS In Hindi

अच्छी डाइट (Diet)

कम कार्बोहाइड्रेट वाली चीजें और प्रोटीन वाले खाने को डाइट में शामिल करने से वजन कम होता है और वजन कम होने से इन्सुलिन भी कम होता है। फल, हरी सब्जियों और साबुत अनाज का अधिक इस्तेमाल करने से अधिक फायदे देखने को मिलेंगे और PCOS की समस्या से राहत मिलेगी।

वजन कम करें (Weight loss)

बढ़े हुए वजन के कारण PCOS की स्थिति खराब हो सकती है ऐसे में वजन कम करने से मदद मिलेगी।

व्यायाम करें (Exercise)

PCOS की बीमारी होने पर इन्सुलिन का स्तर भी बढ़ता जाता है, ऐसे में व्यायाम करना लाभदायक है। नियमित व्यायाम करने से वजन नियंत्रित होता है और वजन कम होने से इंसुलिन को भी नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment