सुबह देर से उठने पर पड़ सकता है आपके मानसिक स्वास्थ्य पर खराब प्रभाव, जानिये!

Waking up late in the morning can have a bad effect on your mental health, know!
सुबह देर से उठने पर पड़ सकता है आपके मानसिक स्वास्थ्य पर खराब प्रभाव, जानिये!

सुबह देर से उठना कई लोगों की एक आम आदत होती है। हालाँकि, इसका आपके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

इसलिए आज हम उन विभिन्न तरीकों का पता लगाएंगे जिनसे देर से जागने से आपके मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है।

उत्पादकता और प्रेरणा की कमी

देर से जागने का एक मुख्य प्रभाव पूरे दिन उत्पादकता और प्रेरणा की कमी है। जब आप देर से उठते हैं, तो आप जल्दबाजी और भटकाव महसूस कर सकते हैं, जो बाकी दिनों के लिए टोन सेट कर सकता है। इससे विलंब, फोकस की कमी और कार्यों को पूरा करने में कठिनाई हो सकती है। इसके अतिरिक्त, देर से उठने से यह महसूस हो सकता है कि आपने दिन बर्बाद कर दिया है, जिससे अपराधबोध या खेद की भावना पैदा होती है।

तनाव और चिंता में वृद्धि

तनाव और चिंता में वृद्धि!
तनाव और चिंता में वृद्धि!

देर से उठने से तनाव और चिंता भी बढ़ सकती है। जब आप देर से उठते हैं, तो आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि आप दिन में पहले से ही पीछे हैं, जो तनाव और भारीपन की भावना पैदा कर सकता है। इससे इस बात की चिंता भी हो सकती है कि आपको पूरे दिन क्या हासिल करना है, साथ ही छूटे हुए समय को पकड़ने के लिए दबाव की भावना भी है।

धूप के संपर्क में कमी

आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए सूर्य के प्रकाश का एक्सपोजर महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह आपके सर्कडियन लय को नियंत्रित करने में मदद करता है और सेरोटोनिन के उत्पादन को बढ़ावा देता है, एक हार्मोन जो मूड को नियंत्रित करने में मदद करता है। जब आप देर से जागते हैं, तो आप सूर्य के प्रकाश के संपर्क में नहीं आते हैं, जो नकारात्मक प्रभावों की एक श्रृंखला में योगदान दे सकता है। उदाहरण के लिए, सेरोटोनिन के निम्न स्तर को अवसाद और मौसमी उत्तेजित विकार (एसएडी) से जोड़ा गया है।

डिप्रेशन का खतरा बढ़ जाता है

देर से जागने को अवसाद के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है। यह कारकों के संयोजन के कारण हो सकता है, जिसमें आपके सर्कडियन लय के विघटन, सूर्य के प्रकाश के संपर्क में कमी, और देर से जागने के लिए अपराध या खेद की भावनाएं शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, देर से जागने से अलगाव की भावना पैदा हो सकती है, क्योंकि आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि आप सामाजिक संपर्क या अवसरों से चूक रहे हैं।

youtube-cover

जल्दी उठने के टिप्स

यदि आप जल्दी उठकर अपने मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करना चाहते हैं, तो ऐसे कई सुझाव हैं जो सहायक हो सकते हैं:

अपने सोने के समय को धीरे-धीरे समायोजित करें:

रात भर में कई घंटे पहले उठने की कोशिश करने के बजाय, प्रत्येक दिन 15-30 मिनट पहले उठकर धीरे-धीरे अपनी नींद के कार्यक्रम को समायोजित करें।

सोने का रूटीन बनाएं:

सोने का नियमित रूटीन बनाने से आपके शरीर को नींद के लिए तैयार होने और आपकी नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

सोने से पहले स्क्रीन का समय सीमित करें:

सोने से पहले स्क्रीन के संपर्क में आने से आपकी सर्केडियन रिदम बाधित हो सकती है और नींद आने में मुश्किल हो सकती है। सोने से कम से कम एक घंटे पहले स्क्रीन टाइम को सीमित करने की कोशिश करें।

अलार्म घड़ी का उपयोग करें: अलार्म घड़ी का उपयोग करने से आपको हर दिन एक निश्चित समय पर जागने में मदद मिल सकती है, जिससे आपके सोने-जागने के चक्र में सुधार हो सकता है।

नियमित व्यायाम करें: नियमित व्यायाम आपके सोने-जागने के चक्र को नियंत्रित करने और आपके समग्र मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now