2017 एशिया कप मेरी जिंदगी का टर्निंग प्‍वाइंट था - लालरेमसियामी

लालरेमसियामी
लालरेमसियामी

भारतीय महिला हॉकी टीम की फॉरवर्ड लालरेमसियामी ने 2017 एशिया कप को अपने करियर का टर्निंग प्‍वाइंट बताया और कहा कि वह अपनी पसंदीदा खिलाड़ी कप्‍तान रानी रामपाल के साथ खेलते रहना चाहती हैं। 20 साल की लालरेमसियामी ने भारत की कई महत्‍वपूर्ण जीत में अहम भूमिका निभाई है, जिसमें पिछले साल की एफआईएच महिला सीरीज फाइनल्‍स और एफआईएच हॉकी ओलंपिक क्‍वालीफायर्स शामिल है।

हॉकी इंडिया द्वारा जारी रिलीज में लालरेमसियामी के हवाले से कहा गया, 'एशिया कप 2017 मेरी पहली अंतरराष्‍ट्रीय प्रतियोगिता थी और इसलिए मेरे लिए बहुत जरूरी था कि टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करूं। मेरा अपने खेल पर विश्‍वास बढ़ा जब प्रतियोगिता में मैच खेले। उस टूर्नामेंट को जीतकर हमने 2018 विश्‍व कप के लिए क्‍वालीफाई किया इसलिए मेरे लिए एशिया कप 2017 हमेशा बहुत विशेष रहा।'

लालरेमसियामी पर रानी रामपाल का प्रभाव

भारत के लिए 64 मैच खेल चुकी लालरेमसियामी ने कहा कि कप्‍तान रानी रामपाल का उन पर बहुत प्रभाव रहा है। लालरेमसियामी ने कहा, 'मैं भारतीय टीम से जुड़ने से पहले टीवी पर रानी दीदी और अन्‍य सीनियर खिलाड़‍ियों को देखती थी। इसलिए रानी जैसी खिलाड़ी के साथ खेलना शानदार लगता है। वह मेरी पसंदीदा खिलाड़ी है और मुझे उम्‍मीद है कि एक दिन उसके जैसी खिलाड़ी बन सकूंगी। रानी हमेशा मेरी मदद करती हैं। जब भी मुझे अपने खेल को लेकर कोई बात करनी होती है तो मैं हमेशा रानी दी से पूछती हूं। जब मैं भारतीय टीम से पहली बार जुड़ी तो रानी दीदी ने मुझे हिंदी भी सिखाई। मुझे उम्‍मीद है कि रानी दीदी के साथ लंबे समय तक खेल सकूं।'

लालरेमसियामी ने मिजारम सरकार द्वारा संचालित थेनजॉल में एकेडमी में हॉकी के बेसिक्‍स सीखे। वह नॉर्थईस्‍ट में खेल की प्रगति देखकर खुश हैं। लालरेमसियामी ने कहा, 'पिछले कुछ सालों में नॉर्थईस्‍ट में हॉकी की काफी प्रगति हुई है। हमारी टीम में सुशीला चानू हैं, जिन्‍होंने भारतीय टीम के लिए 150 से ज्‍यादा मैच खेले हैं। कोथाजित सिंह खडंगबम, नीलाकांत शर्मा और चिंगलेनसना सिंह कंगुजम ने भी भारतीय पुरुष हॉकी टीम के लिए कई मैच खेले हैं। मुझे भरोसा है कि अगर हम लगातार टीम के लिए प्रदर्शन कर सके तो नॉर्थईस्‍ट के युवाओं को प्रेरणा मिलेगी। इससे क्षेत्र में हॉकी की प्रगति होगी।'

हाल ही में नेहा गोयल के हवाले से हॉकी इंडिया ने बयान जारी करते हुए कहा, 'हमारा पूरा ध्‍यान टोक्‍यो ओलंपिक्‍स में इतिहास रचने पर है। हमने पिछले कुछ महीनों में अपनी फिटनेस पर काफी काम किया है और आगामी महीनों में अपना खेल सुधारने के लिए हम अपना पूरा जोर लगा रहे हैं।'

नेहा गोयल ने आगे कहा, '2019 में हमारा प्रदर्शन शानदार रहा जहां हमने एफआईएच महिलाओं की सीरीज फाइनल्‍स जीता और एफआईएच हॉकी ओलंपिक क्‍वालीफायर्स के जरिये ओलंपिक्‍स में जगह पक्‍की की। हमने शीर्ष टीमों के खिलाफ पिछले कुछ समय में शानदार प्रदर्शन किया और इसलिए हमारा विश्‍वास है कि अगले साल टोक्‍यो में हम इतिहास रच सकते हैं। यही हमारा एकमात्र लक्ष्‍य है।'

Quick Links

App download animated image Get the free App now