जब मेराज ख़ान ने शूटिंग में जीते पैसों से ख़रीदा था क्रिकेट बैट

Irshad
मेराज ख़ान (Mairaj Khan)

भारतीय स्कीट शूटर मेराज ख़ान (Mairaj Khan) आज किसी परिचय का मोहताज नहीं हैं, 2016 रियो गेम्स में तो उन्होंने स्कीट शूटिंग में जगह बनाकर इतिहास रच दिया था। वह भारत की ओर से ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई करने वाले पहले भारतीय स्कीट शूटर थे। लेकिन आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे कि उनका सपना भारत का प्रतिनिधित्व करना तो था लेकिन शूटिंग में नहीं बल्कि वह भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से खेलना चाहते थे।

इस बात का ख़ुलासा उन्होंने ख़ुद किया, ओलंपिक चैनल के साथ दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, “मैं भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से खेलना चाहता था और भारतीय तिरंगा अपने सीने पर पहनते हुए देश का गौरव बढ़ाना चाहता था। मुझे लगता था कि ये सपना सिर्फ़ क्रिकेट खेलकर ही पूरा किया जा सकता है, लेकिन मैं ग़लत था। मैंने कभी ये सोचा ही नहीं था कि शूटिंग से भी मैं देश का प्रतिनिधित्व कर सकता हूं।“

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने क्रिकेट के प्रति अपनी इस दीवानगी के बारे में एक मज़ेदार कहानी भी सुनाई।

मेराज ने कहा, “जब मैं 12 साल का था तो पहली बार उत्तर प्रदेश स्टेट राइफ़ल प्रतिस्पर्धा (जूनिययर वर्ग) में शिरकत की थी। जहां मैं तीसरे स्थान पर रहा था और इस उपलब्धि के लिए मुझे उस समय इनामी राशि के तौर पर 30 रुपये मिले थे। उस समय मेरे लिए इसकी बड़ी अहमियत थी, क्योंकि ये जीत बिना किसी ट्रेनिंग के हासिल हुई थी। इस जीत के बाद मैं बेहद उत्साहित था और उस इनामी राशि से तुरंत जाकर मैंने एक क्रिकेट बैट ख़रीदा था।“

क्रिकेट में देश का प्रतिनिधित्व करने का सपना संजोए मेराज ख़ान की क़िस्मत अपनी मंज़िल की ओर बढ़ती गई लेकिन रास्ते बदल गए थे, मेराज यहां से क्रिकेट में नहीं बल्कि शूटिंग में आगे बढ़ते गए और भारत के लिए इतिहास रचते गए।

मेराज ख़ान का एक सपना तो पूरा हो गया है लेकिन अब उनका मक़सद ओलंपिक में देश के लिए पदक जीतना है। 45 वर्षीय मेराज इसके लिए जमकर मेहनत कर रहे हैं और उन्होंने टोक्यो 2020 के लिए भी क्वालिफ़ाई कर लिया है।

“मेरा लक्ष्य है कि मैं हिन्दुस्तान को स्कीट शूटिंग में स्वर्ण पदक दिलाऊं, अगर ऐसा कर पाया तो ये न सिर्फ़ इतिहास होगा बल्कि मेरे सपने को भी साकार करेगा। इससे ये खेल लोगों में लोकप्रिय भी होगा क्योंकि स्कीट के बारे में अभी भी ज़्यादा जानकारी लोगों को नहीं है।“

मेराज ख़ान फ़िलहाल टोक्यो ओलंपिक में अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए नई दिल्ली में स्थित डॉक्टर करणी सिंह शूटिंग रेंज में जमकर मेहनत कर रहे हैं।

Quick Links

Edited by Irshad