Create
Notifications

कोरोना वायरस महामारी के कारण अगले साल के लिए स्‍थगित हुआ अल्‍टीमेट टेबल टेनिस

टेबल टेनिस
टेबल टेनिस
Vivek Goel
visit

अल्‍टीमेट टेबल टेनिस (यूटीटी) का चौथा संस्‍करण शुक्रवार को कोरोना वायरस महामारी के कारण अगले साल के लिए स्‍थगित कर दिया है। कोविड-19 महामारी के बीच खिलाड़‍ियों की सुरक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य के मद्देनजर अल्‍टीमेट टेबल टेनिस स्‍थगित करने का फैसला किया गया। अल्‍टीमेट टेबल टेनिस इस साल टोक्‍यो ओलंपिक्‍स के बाद भारत में 14-31 अगस्‍त तक प्रस्‍तावित था, लेकिन महामारी के कारण अगले साल के लिए स्‍थगित कर दिया गया। बता दें कि अल्‍टीमेट टेबल टेनिस को अगले साल अनिश्चितकालीन समय के लिए स्‍थगित किया गया है।

अल्‍टीमेट टेबल टेनिस के सह-प्रचारक विता दानी और नीरज बजाज ने संयुक्‍त बयान में कहा, 'हम खिलाड़‍ियों की सुरक्षा व स्‍वास्‍थ्‍य और अन्‍य स्‍टेकहोल्‍डर्स को लेकर कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं। इस साल ओलंपिक होना है। इसके अलावा अंतरराष्‍ट्रीय यात्रा पाबंदियां अभी पूरी तरह हटी नहीं है, जिसके बारे में स्‍पष्‍टता का इंतजार है। इसलिए मौजूदा स्थिति को ध्‍यान में रखते हुए और टीटीएफआई से बातचीत करने के बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि इस साल अल्‍टीमेट टेबल टेनिस का अयोजन नहीं कराएंगे।'

बयान में आगे कहा गया, 'हमें उम्‍मीद है कि 2021 साल स्‍वस्‍थ और खुशहाल होगा और इस दौरान हम अगले साल अल्‍टीमेट टेबल टेनिस के आयोजन की तारीखों का ऐलान करेंगे।' 2017 में शुरू हुई अल्‍टीमेट टेबल टेनिस लीग से कई भारतीय पैडलरों को लाभ मिला और इससे कई घरेलू टूर्नामेंट्स को भी मदद मिली।

भारतीय टेबल टेनिस संघ टीटीएफआई के महासचिव एमपी सिंह ने कहा, 'हम चाहते हैं कि टेबल टेनिस दोबारा शुरू हो। हालांकि, कई ऐसे मामले हैं, जिनके बारे में विचार करना और उन पर ध्‍यान देना जरूरी है। इन परिस्थितियों में अल्‍टीमेट टेबल टेनिस का आयोजन और वो भी बिना विदेशी खिलाड़‍ियों के संभव नहीं लगता। हालांकि, 2021 में हम लीग के चौथे संस्‍करण की तरफ ध्‍यान लगाए हुए हैं। अल्‍टीमेट टेबल टेनिस लीग के लिए अगले साल जल्‍दी विंडो खोजी जा रही है। इसके लिए कोविड-19 महामारी की स्थिति सुधरने की भी जरूरत है।'

अल्‍टीमेट टेबल टेनिस से चीन की दूरी

अल्‍टीमेट टेबल टेनिस को आईटीटीएफ कैंलेंडर में पहले दो साल आधिकारिक विंडो मिली, लेकिन पेशेवर सीजन के व्‍यस्‍त होने से पिछले साल उसे विंडो नहीं मिली। भले ही अल्‍टीमेट टेबल टेनिस में हिस्‍सा लेने से चीनी खिलाड़ी दूर रहते हैं, लेकिन इस लीग ने जर्मनी, स्‍वीडन, चीनी ताइपे, हांगकांग और पुर्तगाल के पैडलर्स को आकर्षित किया।

अल्‍टीमेट टेबल टेनिस लीग ने भारत में उभरती प्रतिभाओं को भी प्‍लेटफॉर्म दिया, जिसमें देश के शीर्ष पैडलर्स शरत कमल, जी साथियान और मनिका बत्रा भी हिस्‍सा लेती हैं।


Edited by Vivek Goel
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now