Create

यूएस ओपन : राफेल नडाल को हराकर अमेरिका के फ्रांसेस टियाफो ने रचा इतिहास 

नडाल (दाएं) को हराने के बाद खुशी से चिल्लाते 24 साल के टियाफो(बाएं)।
नडाल (दाएं) को हराने के बाद खुशी से चिल्लाते 24 साल के टियाफो (बाएं)

22 बार के सिंगल्स ग्रैंड स्लैम विजेता स्पेन के राफेल नडाल यूएस ओपन से बाहर हो गए हैं। टूर्नामेंट में दूसरी सीड नडाल को चौथे दौर में अमेरिका के 22वीं सीड फ्रांसेस टियाफो ने 6-4, 4-6, 6-4, 6-3 से हराकर पहली बार यूएस ओपन के क्वार्टरफाइनल में जगह बनाई है। इतना ही नहीं नडाल को हराने के साथ ही 24 साल के टियाफो ने कई रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिए हैं और अपने करियर की सबसे बड़ी जीत भी हासिल की है।

FRANCES TIAFOE HAS DONE IT https://t.co/V0dnN5eXHz

नडाल के करीब 2 दशक लंबे करियर में उन्हें तीसरी बार किसी अमेरिकी खिलाड़ी ने ग्रैंड स्लैम में मात दी है। साल 2004 में एंडी रॉडिक और साल 2005 में जेम्स ब्लेक ये कारनामा कर चुके हैं और अब 17 सालों के बाद टियाफो ने नडाल को हराया है। यही नहीं साल 2004 में एंडी रॉडिक के बाद टियाफो यूएस ओपन के क्वार्टरफाइनल में पहुंचने वाले सबसे युवा अमेरिकी पुरुष खिलाड़ी बन गए हैं।

Home cookin' 🇺🇸 https://t.co/tuxygYy8JI

इस साल ग्रैंड स्लैम मुकाबलों में ये नडाल की पहली हार है। नडाल ने साल का पहला ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन डेनिल मेदवेदेव को हराकर जीता। इसके बाद उन्होंने फ्रेंच ओपन जीतकर 22वीं बार मेजर टूर्नामेंट अपने नाम किया। विम्बल्डन में नडाल सेमीफाइनल तक पहुंचे थे लेकिन चोट के कारण मुकाबला खेला ही नहीं। ऐसे में टियाफो के खिलाफ मैच से पहले उन्हें इस साल ग्रैंड स्लैम में एक भी हार नहीं मिली थी।

इतना ही नहीं, नडाल का विश्व रैंकिंग में नंबर 1 बनने के सपने पर फिलहाल संशय बन गया है। वहीं स्पेन के कार्लोस अल्कराज और नॉर्वे के कैस्पर रूड इस दौड़ में मजबूत हो गए हैं। अल्कराज या रूड में से अगर कोई भी यूएस ओपन जीतेगा, तो वो नया विश्व नंबर 1 होगा, लेकिन अगर दोनों ही फाइनल में नहीं पहुंचते तो राफेल नडाल एक बार फिर विश्व के नंबर 1 खिलाड़ी बन जाएंगे।

WHAT A MOMENT.@FTiafoe is the youngest American in the @usopen quarter-finals since Roddick in 2004 🔥 #USOpen https://t.co/HR3rPAU5ac

नडाल के खिलाफ विजयी शॉट लगाने के बाद टियाफो कितने हैरान थे यह उनके चेहरे पर साफ झलक रहा था। सिर्फ टियाफो ही नहीं, बल्कि स्टेडियम में मौजूद हर दर्शक इस बड़े उलटफेर से स्तब्ध था।

मैं बेहद खुश हूं और हैरान भी। आज मैंने बेहद उम्दा टेनिस खेली और मुझे खुद समझ नहीं आ रहा कि ये क्या हो गया है। चौथे सेट में जब में 4-3 से आगे था और पांचवा गेम जीतने वाला था तो मेरे पैर जैसे जमीन में अड़ गए थे लेकिन मैं खुशनसीब हूं कि उस स्थिति से बाहर निकल पाया। मैं यहां मैच जीतने के इरादे से आया था और मैंने ऐसा किया भी।

टियाफो 2015 से लगातार यूएस ओपन के मेन ड्रॉ में खेल रहे हैं और पिछले दो सालों से चौथे दौर से आगे नहीं बढ़ पाए थे। टियाफो इससे पहले साल 2019 में ऑस्ट्रेलियन ओपन के क्वार्टरफाइनल में पहुंच चुके हैं। क्वार्टरफाइनल में अब रूस के एंड्री रुब्लेव से भिड़ेंगे जिन्होंने सातवीं सीड ब्रिटेन के कैमरून नॉरी को 6-4, 6-4, 6-4 से हारने में कामयाबी हासिल की।

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment