Create
Notifications

नोवाक जोकोविच ने पेरिस मास्‍टर्स से अपना नाम वापस लिया

नोवाक जोकोविच और राफेल नडाल
नोवाक जोकोविच और राफेल नडाल
Vivek Goel
visit

दुनिया के नंबर-1 टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने फैसला किया है कि वह पेरिस मास्‍टर्स में हिस्‍सा नहीं लेंगे क्‍योंकि नवंबर में उनके पास जीतने के लिए अंक नहीं हैं। नोवाक जोकोविच सीजन के अंत में अपने नंबर-1 का ताज बरकरार रखने वाले हैं। 33 साल के नोवाक जोकोविच ने बेलग्रेड डेली स्‍पोर्ट्सकी जुर्नाल के बुधवार एडिशन में कहा, 'मैं पेरिस में नहीं खेलूंगा क्‍योंकि मुझे अपनी प्‍वाइंट्स टैली में कुछ नहीं जोड़ना, लेकिन मैं विएना और लंदन जाउंगा।'

नोवाक जोकोविच ने आगे कहा, 'मैं विएना में 500 अंक तक जीत सकता हूं क्‍योंकि पिछले साल वहां नहीं खेला था और लंदन में भी काफी अंक उपलब्‍ध हैं।' नोवाक जोकोविच ने पिछले महीने रोम में इटालियन ओपन खिताब जीतकर रिकॉर्ड 36वां एटीपी मास्‍टर्स खिताब जीता था। उन्‍होंने राफेल नडाल को पीछे छोड़ा था। बहरहाल, 13वां फ्रेंच ओपन खिताब जीतने वाले राफेल नडाल ने पुष्टि कर दी है वो पेरिस मास्‍टर्स में हिस्‍सा लेंगे। नडाल ने रोजर फेडरर के 20 ग्रैंड स्‍लैम खिताब की बराबरी की जब फ्रेंच ओपन के फाइनल में उन्‍होंने नोवाक जोकोविच को सीधे सेटों में मात दी थी। नडाल ने कहा कि वह 26 अक्‍टूबर-1 नवंबर तक विएना में होने वाले टूर्नामेंट में हिस्‍सा नहीं लेंगे। मगर लंदन में एटीपी फाइनल्‍स में उनके हिस्‍सा लेने की उम्‍मीद है, जो 15-22 नवंबर तक होगा।

नोवाक जोकोविच को कोई नुकसान नहीं

यह पूछने पर कि विश्‍व नंबर-2 नडाल को मास्‍टर्स रेस में उनकी बराबरी करने की अनुमति देंगे तो नोवाक जोकोविच ने कहा, 'यह मेरी प्राथमिकता नहीं है। मेरा प्रमुख लक्ष्‍य ज्‍यादा से ज्‍यादा अंक बटोरना है ताकि मैं उन लोगों से दूरी बना सकूं, जो अगले सीजन तक मेरा पीछा कर रहे हैं। मैं एटीपी टूर में सबसे ज्‍यादा सप्‍ताह नंबर-1 पर बने रहना चाहता हूं और इसको सार्थक करने के लिए जो कर सकूंगा वो करूंगा।'

नोवाक जोकोविच ने आगे कहा कि चाहे नडाल पेरिस में खेले या न खेले, लेकिन कुछ बदलने वाला नहीं क्‍योंकि यह सब मेरे हाथ में है। इस साल ऑस्‍ट्रेलियन ओपन में 17वां प्रमुख खिताब जीतने वाले नोवाक जोकोविच को विश्‍वास है कि सर्बिया की आगामी प्रतिभा एक दिन उनके नक्‍शेकदम पर चलेंगे। नोवाक जोकोविच ने कहा, 'पिछले 10-15 साल शानदार रहे और लास्‍लो जेरे, मियोमीर केचमानोविच और हमाद मेडजेडोविच ने सफलता हासिल की। यह देखकर अच्‍छा लगता है कि युवा टूर्नामेंट्स जीत रहे हैं।'


Edited by Vivek Goel
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now