Create

सरिता मोर गोल्‍ड के लिए लड़ेंगी, नीरज-नवीन ने रोम में जीता ब्रॉन्‍ज मेडल

सरिता मोर
सरिता मोर
Vivek Goel

एशियाई चैंपियनशिप की गोल्‍ड मेडलिस्‍ट सरिता मोर ने महिलाओं के 57 किग्रा वर्ग के फाइनल में पहुंचकर कम से कम सिल्‍वर मेडल पक्‍का कर लिया है। वहीं भारत के ग्रीको रोमन पहलवान नीरज और नवीन ने शुक्रवार को यूडब्‍ल्‍यूडब्‍ल्‍यू रैंकिंग सीरीज इवेंट मेटियो पेलिकोन में ब्रॉन्‍ज मेडल जीत लिया है। पिछले साल दिल्‍ली में एशियाई चैंपियनशिप में 59 किग्रा का गोल्‍ड मेडल जीतने वाली 25 साल की सरिता ने दोनों अपनी बाउट एकतरफा अंदाज में जीती।

सरिता मोर ने पहले क्वार्टर फाइनल में कजाखस्तान अल्टनेय सतेलगन को 4-1 से हराने के बाद सेमीफाइनल में एम्मा टिस्सीनमा को पटखनी दी।

अब गोल्‍ड मेडल के लिए सरिता मोर का सामना ब्राजील की गिउलिया रोड्रिगेज से होगा, जिन्होंने एक अन्‍य सेमीफाइनल में भारत की अंशु मलिक को 10-7 से मात दी। जूनियर से सीनियर स्तर में आने वाली अंशु ने गिउलिया से हारने से पहले क्वार्टर फाइनल में बुल्गारिया की एवलिना वेलिना गॉर्जीवा निकोलावा को 11-6 से हराया था। ब्रॉन्‍ज मेडल के प्लेऑफ के लिए 19 साल की खिलाड़ी इटली की फ्रांसेस्का इंडेलिकाटो से भिड़ेगी।

नवीन-नीरज ने बाउट लड़कर जीता ब्रॉन्‍ज मेडल

निशा 68 किग्रा भारवर्ग के अपने रेपेचेज मैच में अमेरिका की अलेक्जेंड्रिया जुनिस ग्लौड से हार 2-3 से हार कर मेडल की दौड़ से बाहर हो गईं। वहीं, किरण 76 किग्रा के क्वार्टर फाइनल में हार कर प्रतियोगिता से बाहर हो गईं। 2018 एशियाई गेम्‍स की मेडलिस्‍ट दिव्‍या काकरण ट्रायल्‍स में हारने के बाद से प्रतियोगिता में हिस्‍सा नहीं ले रही हैं। ग्रीको रोमन में हरप्रीत सिंह (82 किग्रा) से मेडल की उम्मीद थी, लेकिन वह तुर्की के साहिल आयैदिन से हारकर खिताबी दौड़ से बाहर हो गए।

नवीन और नीरज ने हालांकि मौके का फायदा उठाते हुए ग्रीको रोमन में ब्रॉन्‍ज हासिल किए। नीरज ने 63 किग्रा वर्ग में अमेरिका के सैमुएल ली जॉन्स को 6-4 से मात दी जबकि नवीन 130 किग्रा भार वर्ग में चेक गणराज्य के स्टेपन डेविड के खिलाफ 1-1 की बराबरी से मुकाबला छूटने के बाद आखिरी अंक के आधार पर विजेता बने। कुलदीप मलिक 72 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक के लिए रूस के चिंगिज लाबाजानोव की चुनौती का सामना करेंगे। सुनील कुमार (87 किग्रा) और दीपांशु (97 किग्रा) अपने-अपने वर्ग में पदक के दौर में नहीं पहुंच सके।


Edited by Vivek Goel

Comments

Fetching more content...