ओलंपिक में जाने के लिए सुशील कुमार और नरसिंह यादव के बीच फाइट होने की पूरी संभावना: डब्‍ल्‍यूएफआई

नरसिंह यादव 
नरसिंह यादव 

कोरोना वायरस महामारी से एक तरफ जहां पूरी दुनिया का हाल बुरा है, वहीं यह पहलवान नरसिंह यादव के लिए अप्रत्‍याशित रूप से वरदान साबित हुई है। नरसिंह यादव के पास ओलंपिक्‍स में भारत का प्रतिनिधित्‍व करने का एक और मौका है। अगर इस साल ओलंपिक्‍स होते तो 31 साल के नरसिंह यादव को प्रतिस्‍पर्धा करने के लिए अगले चार साल इंतजार करना पड़ता। हालांकि, कोरोना वायरस महामारी के कारण टोक्‍यो गेम्‍स एक साल के लिए स्‍थगित हुए और नरसिंह यादव का डोपिंग प्रतिबंधन इस साल जुलाई में समाप्‍त हुआ। नरसिंह यादव के पास एक बार फिर ओलंपिक में पदक जीतने के सपने को पूरा करने का मौका है।

1 सितंबर से हरियाणा के सोनीपत में जो नेशनल कैंप होना है, उसमें पहले से ही नरसिंह यादव का नाम शामिल है। ये वही जगह है, जहां रियो ओलंपिक्‍स से पहले नरसिंह यादव पर कहा गया था कि उनके डोपिंग की कहानी की योजना बनाई गई थी। बाद में यह दावे बकवास निकले और नरसिंह यादव पर डोप टेस्‍ट में पॉजिटिव पाए जाने के कारण चार साल का प्रतिबंध लगाया गया।

सुशील कुमार से होगा नरसिंह यादव का सामना

नरसिंह यादव दोबारा एक्‍शन में नजर आएंगे और उनका सामना दो बार के ओलंपिक मेडलिस्‍ट सुशील कुमार से हो सकता है। सुशील कुमार को भी कड़ी ट्रेनिंग करनी होगी क्‍योंकि नरसिंह यादव और उनके बीच 74 किग्रा वर्ग में फाइट हो सकती है। यह फाइट ओलंपिक क्‍वालीफायर्स ट्रायल्‍स के हिसाब से होगी।

भारतीय कुश्‍ती संघ (डब्‍ल्‍यूएफआई) के सहायक सचिव विनोद तोमर ने कहा कि समिति से हरी झंडी मिलने के बाद नरसिंह यादव को दोबारा ट्रेनिंग शुरू करने की अनुमति होगी।

तोमर ने कहा, 'नरसिंह यादव ने भविष्‍य में ज्‍यादा सतर्क रहने का वादा करते हुए समिति से गुजारिश की है, इसलिए हम उन्‍हें कैंप से जुड़ने की अनुमति दे रहे हैं। नरसिंह यादव का प्रतिबंध जुलाई में खत्‍म हो गया तो उनके पास ओलंपिक्‍स की तैयारी करने के लिए सभी अधिकार हैं।'

यह पूछने पर कि क्‍या सुशील कुमार और नरसिंह यादव का आमना-सामना हो सकता है, तो तोमर ने कहा, 'हमें (भारत) 74 किग्रा वजन वर्ग में क्‍वालीफाई करना बाकी है। तो ओलंपिक क्‍वालीफायर्स से पहले इस वर्ग में ट्रायल्‍स होंगे। सुशील कुमार, नरसिंह यादव और अन्‍य पहलवानों को इससे गुजरना होगा।'

लंबे समय के बाद भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने हाल ही में रेसलिंग नेशनल कैंप के शुरू होने की घोषणा की थी। पुरुषों और महिलाओं का नेशनल कैंप क्रमश: सोनीपत और लखनऊ में आयोजित होगा। यह शिविर 1 सितंबर से 30 सितंबर तक आयोजित होगा। यह शिविर उन दोनों के लिए आयोजित होगा, जो पहले ही टोक्‍यो ओलंपिक्‍स के लिए क्‍वालीफाई कर चुके हैं और उनके लिए भी, जिनका ओलंपिक में क्‍वालीफाई करना बाकी है।

Quick Links

App download animated image Get the free App now