Create
Notifications
Get the free App now
Favorites Edit
Advertisement

WWE न्यूज़: रोमन रेंस के कैंसर का इलाज हुआ शुरु

  • WWE सुपरस्टार रोमन रेंस ल्यूकीमिया नाम की बीमारी से जूझ रहे हैं
SENIOR ANALYST
न्यूज़
Modified 09 Nov 2018, 11:36 IST

रोमन रेंस ल्यूकीमिया बीमारी से पीड़ित हैं
रोमन रेंस ल्यूकीमिया बीमारी से पीड़ित हैं

करीब 3 हफ्ते पहले रोमन रेंस ने रॉ में अपनी बीमारी के बारे में दुनिया को अवगत कराया। रोमन रेंस द्वारा कही गई बातों की वजह से लाखों फैंस का दिल टूट गया। ल्यूकीमिया (एक तरह का ब्लड कैंसर) की वजह से रोमन रेंस यूनिवर्सल चैंपियनशिप छोड़ दी। और अब लंबे समय के लिए कंपनी से दूर हो चुके हैं।

रैसलिंग ऑब्जर्वर न्यूज़लैटर की रिपोर्ट की मानें तो रोमन रेंस की बीमारी का ट्रीटमेंट (इलाज) शुरु हो गया है। इस बारे में जानकारी सामने नहीं आई है कि रोमन रेंस का किस तरह का ट्रीटमेंट होगा। ये कीमोथेरेपी होगी या फिर किसी दूसरे तरीके से इलाज किया जाएगा। कैंसर जैसी घातक बीमारी के इलाज से शरीर पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं।

कुछ दिनों पहले खबर सामने आई थी कि रोमन रेंस जनवरी महीने के दौरान एक इवेंट में दिखेंगे। 11, 12, 13 जनवरी को होने वाले इस इवेंट में रोमन रेंस के अलावा एलेक्सा ब्लिस, शार्लेट फ्लेयर और पूर्व रिंग अनाउंसर लिलियन गार्सिया भी होंगे। अमेरिका के एरीजोना में होने वाले इस इवेंट में फैंस इन चारों रैसलिंग सुपरस्टार्स से मिलकर उनके साथ फोटो खिंचा सकते हैं। वहीं लिलियन गार्सिया, रोमन रेंस, एलेक्सा और शार्लेट फ्लेयर के साथ Q&A (सवाल-जवाब) सेशन में भी हिस्सा लेंगी।

आपको बता दें कि ल्यूकीमिया एक तरह का ब्लड कैंसर होता है, जिसमें ब्लड सेल्स (रक्त कोशिकाओं) काफी बढ़ने लगती है। दरअसल ल्यूकीमिया होने की स्थिति में वाइट ब्लड सेल्स (श्वेत रक्त कोशिकाओं) के DNA में दिक्कत पैदा हो जाती है। इस वजह से सेल्स ज्यादा बढ़ने लगते हैं और लगातार टूटते रहते हैं। इस कारण सेल्स की मात्रा शरीर में बढ़ जाती है। शरीर की कोशिकाएं निरंतर मरती रहती हैं और उनकी जगह लगातार नई कोशिकाएं बनती रहती हैं। लेकिन ल्यूकीमिया की स्थिति में कोशिकाएं मरती नहीं और वो लगातार इकट्ठी हो जाती हैँ। ल्यूकीमिया की वजह से शरीर में थकान रहती है, बुखार चढ़ना और उतरना लगा रहता है, वजन कम हो जाता है और इंफेक्शन होने का खतरा बना रहता है।

रोमन रेंस से जुड़ी तमाम बड़ी खबरें और फीचर पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें

Published 09 Nov 2018, 11:36 IST
Advertisement
Fetching more content...