Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

असुका द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाला 'ग्रीन मिस्ट' क्या होता है और इसे किसने फेमस बनाया?

  • मिस्ट की वजह से ही चैंपियन बनी हैं असुका
SENIOR ANALYST
फ़ीचर
Modified 21 Dec 2019, 00:53 IST

पेज के चेहरे पर
पेज के चेहरे पर 'ग्रीन मिस्ट' फेंकती हुईं असुका

WWE रिंग में इन दिनों 'ग्रीन मिस्ट' फिर से देखने को मिल रहा है। असुका अपने प्रतिद्वंदियों के चेहरे पर 'ग्रीन मिस्ट' फेंक रही हैं। इसे प्रोफेशनल रेसलिंग में 'एशियन मिस्ट' के नाम से जाना जाता है, जो कि काफी सारे अलग-अलग रंग में होता है और हर रंग का अलग काम होता है।

फैंस के दिमाग में ये बात आती ही होगी कि ये मिस्ट चीज़ आखिर है क्या? इसे सबसे पहले किसने इस्तेमाल किया? और अलग-अलग रिंग के मिस्ट किस लिए यूज़ होते हैं?

ये भी पढ़ें: WWE Crown Jewel 2019 ब्रॉक लैसनर बनाम केन वैलासकेज मैच को खत्म करने के 5 संभावित तरीके

मिस्ट की शुरुआत जापान से हुई, जहां इसे डोकुगिरी के नाम से जाना जाता है। इसे दुनिया के कुछ ही चुनिंदा रेसलर सीक्रेट वेपन के तौर पर इस्तेमाल करते हैं। 'ग्रीन मिस्ट' को WWE में फेमस करने का श्रेय तजीरी को जाता है। तजीरी ने इसका इस्तेमाल कर कई सारे बड़े मुकाबले अपने नाम किए हैं। ये पानी और कलर पाउडर का मिक्स्चर होता है। रेसलर अक्सर मिस्ट के कैप्सूल को मुंह में डालकर विरोधी पर इससे अटैक करते हैं।

तजीरी ने 1999 में ECW में काम करते हुए सबसे पहले मिस्ट का उपयोग शुरु किया था। उन्होंने ECW, WWE, ऑल जापाना प्रो रेसलिंग, न्यू जापान प्रो रेसलिंग में काम करते हुए भी मिस्ट का यूज़ किया है।

WWE रिंग में ज्यादातर मौकों पर हरे रंग के मिस्ट को देखा गया है। फिलहाल असुका भी 'ग्रीन मिस्ट' का प्रयोग कर रही हैं। हरे रंग के अलावा ये लाल, काले, नीले, पीले और बैंगनी रंग का होता है, जिनका स्टोरीलाइन के हिसाब से अलग-अलग असर होता है।

हरे रंग के मिस्ट से रेसलर्स को थोड़े समय के लिए दिखना बंद हो जाता है। लाल रंग का मिस्ट आंखों को जला देता है। वहीं काले मिस्ट के बारे में कहा जाता है कि उसकी वजह से रेसलर्स की कई हफ्तों तक रौशनी चली जाती है। पीले मिस्ट से विरोधी को लकवा मार जाता है।

Advertisement

हालांकि, असल में इनका कोई खतरनाक प्रभाव नहीं होता।

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

Published 29 Oct 2019, 11:07 IST
Advertisement
Fetching more content...