Create

WWE द्वारा अपने अधिकतर बड़े सुपरस्टार्स को वापसी के बाद SmackDown का हिस्सा बनाने के 4 बड़े कारण

WWE सुपरस्टार्स जॉन सीना और ब्रॉक लैसनर ने वापसी करके रोमन रेंस का सामना किया था
WWE सुपरस्टार्स जॉन सीना और ब्रॉक लैसनर ने वापसी करके रोमन रेंस का सामना किया था

WWE स्मैकडाउन (SmackDown) लंबे समय से नंबर वन शो बना हुआ है और इस चीज का सबसे बड़ा कारण यह है कि इस ब्रांड के रोस्टर में WWE के कुछ सबसे बड़े सुपरस्टार्स मौजूद हैं। WWE यूनिवर्सल चैंपियन रोमन रेंस काफी लंबे समय से ब्लू ब्रांड का हिस्सा बने हुए हैं। वहीं, ऐज (Edge), जॉन सीना (John Cena) , फिन बैलर (Finn Balor) जैसे सुपरस्टार्स वापसी के बाद SmackDown का ही हिस्सा बने थे।

वहीं, हाल ही में वापसी करने वाले ब्रॉक लैसनर भी यूनिवर्सल चैंपियन रोमन रेंस के साथ फ्यूड शुरू करने की वजह से SmackDown का हिस्सा बन चुके हैं। वहीं, बैकी लिंच WWE से ब्रेक पर जाने से पहले Raw का हिस्सा हुआ करती थीं। हालांकि, वापसी के बाद SmackDown विमेंस चैंपियनशिप जीतने की वजह से वह ब्लू ब्रांड का हिस्सा बन चुकी हैं। इस आर्टिकल में हम ऐसे 4 कारणों का जिक्र करने वाले हैं कि क्यों अधिकतर बड़े सुपरस्टार्स को वापसी के बाद WWE SmackDown का हिस्सा बना दिया गया है।

4- WWE SmackDown में बड़े सुपरस्टार्स के लिए बेहतर प्रतिद्वंदी मौजूद हैं

यह कहना गलत नहीं होगा कि SmackDown में Raw के मुकाबले ज्यादा बेहतरीन सुपरस्टार्स मौजूद हैं और शायद यही कारण है कि अधिकतर बड़े सुपरस्टार्स वापसी के बाद SmackDown का हिस्सा बनना चाहते हैं। उदाहरण के लिए, ऐज SmackDown में वापसी के बाद यूनिवर्सल चैंपियन रोमन रेंस का सामना करते हुए दिखाई दिए थे। वहीं, हाल ही में संपन्न हुए SummerSlam पीपीवी में ऐज का सैथ रॉलिंस के खिलाफ शानदार मैच देखने को मिला था।

ब्रॉक लैसनर के लिए भी इस ब्रांड में रोमन रेंस के अलावा कई बेहतरीन प्रतिद्वंदी मौजूद हैं। हालांकि, यह देखना रोचक होगा कि WWE ने ब्रॉक का रोमन रेंस के खिलाफ फ्यूड खत्म होने के बाद के लिए क्या प्लान बना रखा है। ऐसा लगा था कि जॉन सीना, रोमन रेंस के खिलाफ फ्यूड खत्म होने के बाद SmackDown के दूसरे सुपरस्टार्स जैसे कि फिन बैलर के खिलाफ फ्यूड करते हुए दिखाई देंगे। हालांकि, ऐसा लग रहा है कि जॉन सीना का फिलहाल के लिए WWE के साथ सफर समाप्त हो चुका है।

3- फॉक्स नेटवर्क के साथ WWE की डील

WWE ने फॉक्स नेटवर्क के साथ 5 साल की डील साइन की है और इस डील के तहत WWE को 1 बिलियन डॉलर मिलने वाले हैं। आपको बता दें, अक्टूबर 2019 में SmackDown का फॉक्स नेटवर्क पर डेब्यू देखने को मिला था और इस नेटवर्क पर डेब्यू के बाद से ही SmackDown को बड़े शो की तरह पेश किया गया है।

SmackDown को बड़े शो की तरह पेश करने के लिए इस शो में बड़े स्टार्स की जरूरत थी। शायद यही कारण है कि अधिकतर WWE सुपरस्टार्स वापसी के बाद SmackDown का हिस्सा बनने का फैसला करते हैं।

2- WWE Raw के मुकाबले छोटा शो होने की वजह से शायद बड़े सुपरस्टार्स SmackDown के साथ जुड़ना चाहते हैं

WWE Raw तीन घंटे का शो है जबकि Raw के मुकाबले में SmackDown केवल 2 घंटे का शो है। इस वजह से रेड ब्रांड में मौजूद सुपरस्टार्स के मुकाबले SmackDown में मौजूद सुपरस्टार्स को बैकस्टेज कम समय बिताना पड़ता है।

शायद यही कारण है कि अधिकतर बड़े सुपरस्टार्स वापसी के बाद Raw के बजाए SmackDown के जरिए WWE में अपनी वापसी करने का फैसला करते हैं। वैसे भी, बड़े सुपरस्टार्स अधिकतर शो के मेन इवेंट में ही नजर आते हैं और SmackDown के शो के छोटा होने की वजह से बड़े सुपरस्टार्स को ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ता है।

1- WWE रेड ब्रांड में मौजूद सुपरस्टार्स का इस्तेमाल करके ही इस शो को सफल बनाना चाहती है

WWE भले ही पिछले कुछ समय में Raw के लगातार बेहतरीन शोज देने में नाकाम रही है। इसके बावजूद भी WWE ने अधिकतर बड़े सुपरस्टार्स का Raw में वापसी करने के बजाए SmackDown में वापसी कराई है। ऐसा शायद इसलिए है क्योंकि WWE रेड ब्रांड में मौजूद सुपरस्टार्स का इस्तेमाल करके ही इस शो को सफल बनाना चाहती है। Raw में WWE चैंपियन बॉबी लैश्ले के अलावा भी ड्रू मैकइंटायर, कैरियन क्रॉस, डेमियन प्रीस्ट जैसे टैलेंटेड सुपरस्टार्स मौजूद हैं।

ऐसा लग रहा है कि WWE डेमियन प्रीस्ट और कैरियन क्रॉस जैसे सुपरस्टार्स को रेड ब्रांड का अगला बड़ा स्टार बनाना चाहती है। WWE की Raw को लेकर की गई मेहनत शायद सफल भी हो रही है क्योंकि इस हफ्ते रेड ब्रांड की रेटिंग काफी अच्छी रही थी। आपको बता दें, पिछले हफ्ते Raw की व्यूअरशिप 1.857 मिलियन रही थी जबकि इस हफ्ते Raw की व्यूअरशिप बढ़कर 2.067 मिलियन हो गई। यह देखना रोचक होगा कि WWE Raw के इस व्यूअरशिप को कायम रख पाती है या नहीं।

Quick Links

Edited by Subham Pal
Be the first one to comment