Create
Notifications

5 भारतीय खिलाड़ी जो लंबा करियर होने के बावजूद सिर्फ एक टेस्ट शतक लगा पाए

Enter caption
Himanshu Kothari

भारतीय क्रिकेट टीम को 1932 में टेस्ट का दर्जा मिला था। तब से लेकर अभी तक भारतीय क्रिकेट टीम 500 से ज्यादा टेस्ट मैच खेल चुकी है। भारतीय टीम ने अपना पहला टेस्ट मैच 1932 में लंदन के खिलाफ लॉर्ड्स मैदान में खेला था। तब से भारतीय टीम में 294 प्लेयर्स टेस्ट मैच खेल चुके हैं। वहीं सीके नायडू भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के पहले कप्तान थे और जबकि लाला अमरनाथ टेस्ट क्रिकेट में पहला शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज थे।

इसके बाद से 82 ऐसे खिलाड़ी हुए हैं जिन्होंने भारत की और से टेस्ट क्रिकेट में शतक लगाया है। वहीं दुनिया में सबसे ज्यादा शतक लगाने का रिकॉर्ड भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी के नाम ही दर्ज है। इस खिलाड़ी का नाम सचिन तेंदुलकर है।

ऐसे में आइए उन पांच भारतीय बल्लेबाजों पर एक नजर डाली जाए जिनके नाम टेस्ट क्रिकेट में मात्र एक शतकीय पारी दर्ज है।

#5 मोहम्मद कैफ

Mohammad Kaif

मोहम्मद कैफ भारतीय अंडर-19 टीम के कप्तान रह चुके हैं और उन्होंने अपनी कप्तानी में सन 2000 में भारतीय टीम को अंडर 19 वर्ल्ड कप भी जीताया है। कैफ एक गजब के फील्डर थे। मोहम्मद कैफ ने अपना पहला टेस्ट मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सन 2000 में खेला था, जब उनकी उम्र से 20 साल की थी।

उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 13 टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 32.84 के औसत से 624 रन बनाए थे। उन्होंने अपना पहला टेस्ट शतक वेस्टइंडीज के खिलाफ सन 2006 में बनाया था, जिसमें उन्होंने नाबाद 148 रन की पारी खेली थी।

उन्होंने नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते हुए राहुल द्रविड़ के साथ 179 रन की साझेदारी की थी। हालांकि इसके बाद उन्हें 2006 में भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया है, जिसके बाद उन्हें वापसी का मौका नहीं मिला और 13 जुलाई 2018 को उन्होंने सभी क्रिकेट के प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर दी थी।

यह भी पढ़ें: 5 विकेटकीपर जिनको एमएस धोनी के कारण भारतीय टीम से बाहर रहना पड़ा

क्रिकेट की ब्रेकिंग न्यूज़ और ताज़ा ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

#4 अजीत अगरकर

Ajit Agarkar

अजीत अगरकर ने अपने करियर की शुरुआत 20 साल की उम्र में किया था। अपने करियर में क्रिकेट के सभी प्रारूपों में वह 200 मैच खेल चुके हैं। उन्होंने अपनी पहला टेस्ट शतक लॉर्ड्स के मैदान पर बनाया था और 109 रनों की पारी खेली थी। जिसमें उन्होंने वीवीएस लक्ष्मण के साथ 568 रनों का लक्ष्य का पीछा करते हुए 126 रनों की साझेदारी की थी।

हालांकि भारतीय क्रिकेट टीम को इस मैच में हार का सामना करना पड़ा था। भारत ने इस मैच को 170 रन से गंवा दिया था। अगरकर का यह पहला 50 रन से ज्यादा का स्कोर था और उस मैच के बाद वह कभी टेस्ट में शतक नहीं लगा पाए।

यह भी पढ़ें: 5 भारतीय क्रिकेटर जिनके लिए देश और टीम ही पहली प्राथमिकता रहे

#3 इरफान पठान

Irfan Pathan

इरफान पठान ने अपना डेब्यू मैच 2003-2004 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। उस समय उनकी उम्र 19 साल की थी, जब उन्होंने इंडिया के सभी क्रिकेट प्रारूपों में खेलना शुरू किया था। इरफान पठान ने अपने करियर में 29 टेस्ट, 120 वनडे और 29 टी20 मैच खेले हैं। उन्होंने 29 टेस्ट मैचों में 100 विकेट भी हासिल किए हैं, जिसमें उनका बेस्ट रिकॉर्ड 59 रन पर 7 विकेट लेना रहा है।

बाएं हाथ के गेंदबाज इरफान पठान बल्लेबाजी में भी अपना कमाल दिखा चुके हैं। अपने करियर में इरफान ने 1105 रन बनाए हैं। उन्होंने पहला शतक लगाते हुए 133 गेंदों पर 102 रन बनाए थे। साथ ही उन्होंने सौरव गांगुली के साथ 178 रन की साझेदारी की थी। इरफान पठान ने अपना आखिरी टेस्ट मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2008 में खेला था।

यह भी पढ़ें: 3 महान कप्तान जिन्होंने भारतीय क्रिकेट को एक दिशा देकर दुनिया में पहचान दिलाई

#2 दिनेश कार्तिक

Dinesh Karthik

दिनेश कार्तिक ऐसे कुछ खिलाड़ियों में से एक हैं जो एमएस धोनी की कप्तानी में दुर्भाग्यशाली रहे। उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। उसके बाद उन्होंने 14 साल में सिर्फ 26 टेस्ट मैच खेले हैं। उन्होंने अपने शुरुआती करियर में नंबर 6 और नंबर 7 पर बल्लेबाजी की है, लेकिन उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2006 में ओपनिंग करते हुए 50 रन बनाए थे।

दिनेश कार्तिक ने अपना पहला टेस्ट शतक बांग्लादेश के खिलाफ 2007 के वर्ल्ड कप के बाद लगाया था लेकिन वीरेंदर सहवाग के वापस आ जाने से उन्होंने अपना स्थान खो दिया और उसके बाद में कभी टेस्ट मैच में ओपनिंग नहीं कर पाए। दिनेश कार्तिक को 2010 बांग्लादेश दौरे के बाद टीम से ड्रॉप के दिया गया। अब ऋषभ पंत के टीम में आ जाने से उनको दोबारा टीम से बाहर कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: 5 भारतीय बल्लेबाज जिन्होंने गेंद के साथ यागदान देते हुए मैच का रुख बदला

#1 अनिल कुंबले

Anil Kumble

अनिल कुंबले भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में सबसे सफल गेंदबाज रहे हैं। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 619 विकेट हासिल किए हैं। उन्होंने अपने 18 साल के करियर की शुरुआत 1990 में की थी। तब वह मात्र 19 साल के थे। अनिल कुंबले ने अपने करियर में 132 टेस्ट मैच खेले हैं और वह जिम लेकर के बाद टेस्ट की एक पारी में विरोधी टीम के 10 विकेट हासिल करने वाले सिर्फ दूसरे गेंदबाज हैं। उन्होंने यह कारनामा पाकिस्तान की टीम के खिलाफ दिल्ली में 1999 में किया था।

उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 2506 रन बनाए हैं जिसमें 5 अर्धशतक और एक शतक शामिल है। उन्होंने अपना एकमात्र टेस्ट शतक लंदन के ओवल ग्राउंड में लगाया था। उन्होंने नाबाद 110 रनों की पारी खेली थी जिसमें उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी, जहीर खान, श्रीसंत के साथ मिलकर 350 रन जोड़े थे।

यह भी पढ़ें: वनडे क्रिकेट के 3 बेहतरीन रिकॉर्ड, जो भारतीय क्रिकेट टीम का वर्चस्व दिखाते हैं

लेखक: ब्रोकन स्पोर्ट्स

अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by निशांत द्रविड़

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...