Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

3 मौके जब मेजबान देशों ने जीता वर्ल्ड कप का खिताब

ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
15 Jun 2019, 10:08 IST

वर्ल्ड कप 2011 का खिताब जीतने के बाद सचिन तेंदुलकर को कंधे पर उठाकर मैदान का चक्कर लगाते विराट कोहली
वर्ल्ड कप 2011 का खिताब जीतने के बाद सचिन तेंदुलकर को कंधे पर उठाकर मैदान का चक्कर लगाते विराट कोहली

प्रत्येक खेल में घरेलू मैदानों का कुछ अहम फायदा होता है। घरेलू टीम के प्रशंसक बड़ी संख्या में अपने स्थानीय पसंदीदा खिलाड़ियों का समर्थन करने के लिए स्टेडियम में आते हैं। क्रिकेट में घरेलू मैदान का फायदा सिर्फ समर्थन तक ही सीमित नहीं है। हर देश में स्थिति कुछ अलग होती है। तापमान, हवा की गति, आर्द्रता, पिच की प्रकृति, ग्राउंड की साइज- सब कुछ क्रिकेट के खेल में प्रमुख भूमिका निभाता है।

उदाहरण के लिए, भारतीय उप-महाद्वीप की धूल भरी पिचों पर गेंद को अधिक टर्न मिलेगी, जिससे स्पिनरों को अधिक मदद मिलती है। ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका की पिचों पर ज्यादा उछाल होता है जो तेज गेंदबाजों के लिए मददगार साबित होता है। अगर हम इंग्लैंड और न्यूज़ीलैंड की पिचों को देखें तो यहां गेंद अधिक स्विंग होती है।

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: 5 खिलाड़ी जो शायद एक भी मैच न खेल पाएं

शायद यही कारण है कि मेजबान देशों को द्विपक्षीय श्रृंखलाओं और आईसीसी टूर्नामेंटों में अन्य टीमों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते हुए देखा गया है। वर्ल्ड कप के अब तक कुल 11 संस्करण खेले जा चुके हैं, जिसमें से 3 मौके ऐसे आए हैं जब मेजबान देशों ने खिताब जीता है। आज हम इसी के बारे में बात करने जा रहे हैं।

#3. श्रीलंका (1996):

वर्ल्ड कप 1996 का फाइनल जीतने के बाद खुशी मानते श्रीलंकाई खिलाड़ी
वर्ल्ड कप 1996 का फाइनल जीतने के बाद खुशी मानते श्रीलंकाई खिलाड़ी

साल 1996 के वर्ल्ड कप की मेजबानी संयुक्त रूप से भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका कर रहे थे। श्रीलंका पहली बार वर्ल्ड कप की मेजबानी कर रहा था, जबकि भारत और पाकिस्तान दूसरी बार संयुक्त रूप से वर्ल्ड कप की मेजबानी कर रहे थे।

श्रीलंका के ने इस मौके को अच्छे से भुनाया। लीग मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद एवं कोलकाता के ईडन गार्डंस मैदान में खेले गए सेमीफाइनल मैच में सह-मेजबान भारत को हराकर वे फाइनल में पहुंचे थे। उन्होंने वर्ल्ड कप 1996 के फाइनल मैच में लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया को 7 विकेट से हराकर अपना पहला एवं इकलौता वर्ल्ड कप का खिताब जीता।

इस टूर्नामेंट में भारत के सचिन तेंदुलकर (523 रन) सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे, जबकि अनिल कुंबले (15 विकेट) सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं

1 / 3 NEXT
Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...