Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

3 मैच जिनमें भारत को मजबूत स्थिति में होने के बाद भी मिली हार 

भारत इन मैचों में मजबूत स्थिति में होने के बावजूद हार गया
भारत इन मैचों में मजबूत स्थिति में होने के बावजूद हार गया
FEATURED COLUMNIST
Modified 04 Jun 2020, 13:04 IST
टॉप 5 / टॉप 10
Advertisement

भारतीय टीम इस समय विश्व की टॉप टीमों में से एक हैं और टीम को सफल बनाने में एक कप्तान का बहुत बड़ा हाथ होता है। भारतीय टीम काफी लकी रही है कि टीम को एक के बाद एक काफी बेहतरीन कप्तान मिले। सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले, महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली यह ऐसे कप्तान, जिनकी कप्तानी में भारत ने पिछले कई सालों में अपना दबदबा विश्व क्रिकेट में बनाया।

इस बीच भारत ने 2003 वर्ल्ड कप के फाइनल में जगह बनाई, तो 2007 वर्ल्ड टी20 और 2011 का वर्ल्ड कप भी जीता। टेस्ट में भी टीम कई सालों तक नंबर एक रही। इसके अलावा कई मुकाबलों में टीम ने पिछड़ने के बावजूद जबरदस्त वापसी करते हुए जीत हासिल की।

यह भी पढ़ें: युवराज सिंह की पाकिस्तान के खिलाफ खेली गई तूफानी पारी, भारत के लिए आखिरी बार बने थे मैन ऑफ द मैच

हालांकि ऐसे कई मौके भी रहे जब टीम ने बेहद मजबूत स्थिति में होने के बावजूद वो मैच गंवा दिया, जिसे उन्हें जीतना चाहिए।

इस आर्टिकल में हम तीनों फॉर्मेट के एक-एक ऐसे ही मैच की बात करेंगे, जिसे भारत ने मजबूत स्थिति में होने के बावजूद गंवाया:

#) भारत vs ऑस्ट्रेलिया, एडिलेड 2013 (टेस्ट क्रिकेट)

आखिरी दिन भारत को मिली हार
आखिरी दिन भारत को मिली हार

दिसंबर 2013 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा 4 मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए किया था। 9 दिसंबर से एडिलेड में सीरीज का पहला टेस्ट खेला गया। इस मैच में महेंद्र सिंह धोनी नहीं खेल रहे थे, तो उनकी जगह विराट कोहली भारत की कप्तानी कर रहे थे। यह एक बेहद हाई स्कोरिंग रोमांचक मुकाबला था। पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने डेविड वॉर्नर (145), माइकल क्लार्क (128) और स्टीव स्मिथ (162) की शतकीय पारियों की बदौलत 517-7 के विशाल स्कोर पर पारी घोषित कर दी।

इसके जवाब में भारत ने अपनी पहली पारी में कप्तान विराट कोहली (115) के शतक के दम पर जबरदस्त पलटवार किया और टीम 444 रनों पर ऑलआउट हो गई। इस प्रकार ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी के आधार पर 73 रनों की बढ़त मिली। दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया ने तेज खेलते हुए डेविड वॉर्नर (102) के शतक के दम पर पारी को 290-5 के स्कोर पर घोषित कर दिया और मैच के आखिरी दिन भारत को 364 रनों का लक्ष्य दिया।

आखिरी दिन भारत को यहां तो 98 ओवर खेलने थे या 364 रन बनाने थे। हालांकि भारत ने हार नहीं मानी और जीतने के लिए खेली। आखिरी दिन शुरुआती झटके लगने के बाद विराट कोहली और मुरली विजय के बीच 183 रनों की बेहतरीन साझेदारी हुई। इस समय ऐसा लग रहा था कि भारत इस मैच को आसानी से जीत जाएगा। हालांकि मुरली विजय (99) के आउट होते ही भारतीय पारी लड़खड़ा गई। कोहली (141) ने जरूर शानदार शतक लगाया, लेकिन टीम 315 रनों पर ऑलआउट हो गई और 48 रनों से इस मैच को हार गई। ऑस्ट्रेलिया के नाथन लियोन को मैच में 12 विकेट लेने के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

यह भी पढ़ें: वीरेंदर सहवाग द्वारा सभी फॉर्मेट में खेले गए आखिरी मैच में किए गए प्रदर्शन पर एक नजर

1 / 3 NEXT
Published 04 Jun 2020, 13:04 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit