Create

मरुला ऑयल के 3 उपयोग, 3 फायदे और 3 नुकसान - 3 Uses, 3 Benefits and 3 Disadvantages of Marula Oil

मरुला ऑयल के 3 उपयोग, 3 फायदे और 3 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
मरुला ऑयल के 3 उपयोग, 3 फायदे और 3 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

मरुला ऑयल (Marula Oil), मरुला फल की गुठली से आता है, जो अफ्रीका में पाया जाता है। दक्षिणी अफ्रीका के लोगों ने इसे सैकड़ों वर्षों से त्वचा की देखभाल के लिए उत्पादों और संरक्षक के रूप में उपयोग किया है। मरुला ऑयल बालों और त्वचा को कड़ी धूप और वहां के मौसम के प्रभाव से बचाता है। इन्हीं फायदों को देखकर ही इसका चयन विश्व भर में हो रहा है। आज के समय में आप कई स्किन लोशन, लिपस्टिक और फाउंडेशन में मरुला ऑयल पा सकते हैं। मरुला ऑयल एक फल के बीज से आता है, इसलिए इसमें भी अन्य फलों के समान स्वास्थ्य लाभ होते हैं। कई फल प्रोटीन और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं, जो इसे त्वचा और शरीर के लिए अच्छा बनाते हैं। इस लेख में मरुला ऑयल के उपयोग, फायदे और नुकसान (Uses, Benefits and Disadvantages of Marula Oil) बताये गए हैं।

मरुला ऑयल के 3 उपयोग, 3 फायदे और 3 नुकसान

मरुला ऑयल के उपयोग : Uses Of Marula Oil In Hindi

1. मरुला ऑयल को खाना बनाने में भी इस्तेमाल किया जाता है।

2. त्वचा और बालों के लिए, मरुला ऑयल का उपयोग होता है।

3. लिप बाम के रूप में यह तेल मॉइश्चराइजर का काम करता है।

मरुला ऑयल के फायदे : Benefits Of Marula Oil In Hindi

1. मुहांसो (Pimple, Acne) के लिए भी मरुला ऑयल का उपयोग असरदार होता है। मरुला ऑयल में लिनोलेनिक फैटी एसिड होता है जो मुंहासों की समस्या में आराम दिलाने के साथ-साथ त्वचा को मॉइस्चराइज करता है।

2. मरुला ऑयल का इस्तेमाल स्ट्रेच मार्क्स (reduces stretch marks) कम करने के लिए भी किया जाता है। यह तेल घाव और उसके निशान के प्रभाव को कम करने में असरदार होता है। यह स्कार टिशुस से बचाव करके उनका उपचार करता है।

3. मरुला ऑयल में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण (Anti-oxidant properties) मौजूद होते हैं जो ऑक्सीडेटिव तनाव (reduces oxidative stress) को कम करते हैं। ऑक्सीडेटिव तनाव के कारण ही बालों का झड़ना और उनका सफ़ेद होना होता है। मरुला ऑयल का इस्तेमाल बालों के स्वास्थ्य के लिए किया जा सकता है।

मरुला ऑयल के नुकसान : Side Effects Of Marula Oil In Hindi

1. मरुला ऑयल हाइपोग्लाइसेमिक इफ़ेक्ट (hypoglycemic effect) होता है, लगातार तीन हफ़्तों तक इसके उपयोग से ब्लड प्रेशर में कमी देखने को मिल सकती है। बीपी रोगियों को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए।

2. संवेदनशील त्वचा (sensitive skin) वाले लोगो को मरुला ऑयल के उपयोग से एलर्जी, सूजन, खुजली, लालिमा की शिकायत हो सकती है।

3. मरुला ऑयल के इस्तेमाल से पहले पैच टेस्ट जरूर करें। इससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि त्वचा मरुला ऑयल के प्रति संवेदनशील है कि नहीं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment