Create
Notifications

पुदीने के तेल के 4 फायदे और नुकसान - Pudine Ke Tel Ke 4 Fayde Aur Nuksan

पुदीने के तेल के 4 फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeedaहिंदी)
पुदीने के तेल के 4 फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeedaहिंदी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

पुदीने का तेल (Peppermint Oil) पेपरमिंट प्लांट से प्राप्त किया जाता है जो कि स्पीयरमिंट और वाटर मिंट का हाइब्रिड है। लोगों ने सदियों से पेपरमिंट ऑयल का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों के इलाज के लिए किया है जिसमें पाचन की स्थिति, सर्दी और सिरदर्द शामिल हैं। पुदीने में मौजूद औषधीय गुण के कारण इसके बहुत से स्वास्थ्य लाभ होते हैं। कुछ लोग अरोमाथेरेपी में पेपरमिंट के तेल का उपयोग करते हैं, त्वचा में भी भी पेपरमिंट ऑयल लगाते हैं या भाप या डिफ्यूज़र के माध्यम से इसे अंदर लेते हैं। खाने और ड्रिंक निर्माता भी उत्पादों में स्वाद जोड़ने के लिए बहुत कम मात्रा में पेपरमिंट के अर्क का इस्तेमाल करते हैं। इस लेख में आप पुदीने के तेल के फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे।

पुदीने के तेल के 4 फायदे और नुकसान

पुदीने के तेल के फायदे : Benefits of Peppermint Oil In Hindi

1. पुदीने का तेल पाचन शक्ति को मजबूत करने में काम आता है। इसमें एंटी-स्पास्मोडिक गुण (जो ऐंठन कम करने के लिए फायदेमंद है) मौजूद होता है, जो गैस, अपच, मरोड़ की समस्या में मदद करता है।

2. पुदीने का तेल घाव भरने में भी मददगार हो सकता है। पुदीने के तेल से तैयार किए गए लेप को घाव पर लगाने से घाव में आराम देखने को मिलता है। इसमें मौजूद एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-वायरल, एंटी-फंगल गुण फायदेमंद हो सकते हैं।

3. यदि चिंता के कारण से सिरदर्द होता है तो पुदीने के तेल का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है। चिंता और तनाव के कारण हो रहे सिर में दर्द को कम करने में पुदीने का तेल लाभदायक हो सकता है।

4. पुदीना के तेल का इस्तेमाल मांसपेशियों के आराम के लिए व थकान को कम करने में फायदेमंद हो सकता है। पुदीना में एंटी-स्पास्मोडिक और दर्द-निवारक गुण पाए जाते हैं जो मांसपेशियों की ऐंठन व दर्द को ठीक कर सकते हैं।

पुदीने के तेल के नुकसान : Side-effects Of Peppermint Oil In Hindi

पुदीने के तेल के दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। इसके अधिक सेवन से हमें बचना चाहिए।

- अपच या गैस की समस्या

- मतली व उल्टी होना

- पेट में दर्द होना

- दस्त की समस्या

- चक्कर आना

- शरीर में कंपन होना

- डिप्रेशन या एनज़ाइटी

- लिवर सम्बंधित रोग

- सांस लेने में तकलीफ होना

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...