Create
Notifications

एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार: Acidity ka ayurvedic upchaar

फोटो: BD Health Club
फोटो: BD Health Club
Amit Shukla

एसिडिटी सेहत के लिए खराब होती है। अगर आपके पेट में कोई दिक्कत है तो वो आपको एसिडिटी का शिकार बना सकती है। एसिडिटी के कारण इंसान को पेट और पेट के नजदीक के क्षेत्र में हमेशा भारीपन महसूस होता है। ये सेहत के लिए अच्छा नहीं है और आपको इसका इलाज तुरंत करना चाहिए।

ये भी पढ़ें: पेट में अधिक गैस बनने की समस्या का निदान: pet mein adhik gas banne ki samasya ka nidaan

ऐसे में आप कुछ छोटे से बदलाव कर सकते हैं जिनमें खाने को बत्तीस बार चबाना शामिल है। पेट में जाने वाला भोजन जब सही से पच नहीं पाता है तो उसकी वजह से पेट से रिसने वाला एसिड आपके खाने की नली पर प्रभाव ड़ालता है। इसकी वजह से आपको एसिडिटी का एहसास होता है।

एसिडिटी को ठीक करने के लिए आपको सबसे पहले तो अपने खान पान को ठीक करना होगा। अगर आप खाना खाने के तुरंत बाद सोने चले जाते हैं तो आपको पेट से जुड़ी दिक्कतें हो सकती हैं। ऐसे में अगर आप अपने खाने का समय सोने से कम से कम चार घंटे पहले रखें ताकि ये दिक्कत कम हो जाए।

एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार

मिश्री का सेवन करने से आपको मिलेगा आराम

मिश्री के सेवन से आपको एसिडिटी को रोकने में आराम मिलेगा। मिश्री आपके शरीर में शुगर के स्तर को बेहतर कर देती है और ये शक्कर की अपेक्षा पेट एवं शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुँचाती है। इसलिए अगर आप इसका सेवन करते हैं तो आपको एसिडिटी के खिलाफ लाभ मिलेगा।

ये भी पढ़ें: गिलोय और नीम के रस से डायबिटीज के रोगी पाएंगे आराम: Giloy aur Neem ke ras se diabetes ke rogi payenge aaram

खीरे का सेवन करें

किसी भी प्रकार का सलाद सेहत के लिए अच्छा होता है। सलाद को खाने की सलाह हमेशा दी जाती है। ऐसा ना करने की स्थिति में आप अपनी सेहत को नुकसान पहुँचाते हैं और फाइबर की मात्रा को भी कम कर देते हैं। ये प्रयास करें कि आप खाने के साथ और उसके बिना भी सलाद का सेवन करें ताकि आपको एसिडिटी से आराम मिल सके।

अधिक समय तक खाली पेट ना रहें

अगर आप भूख लगने के बावजूद अपने पेट को अधिक समय के लिए खाली रखते हैं तो आप पेट की नसों को नुकसान पहुँचा रहे हैं। ऐसी स्थिति में जब नसों में एक बदलाव होता है तो उसके कारण पेट में एसिड का रिसाव होता है पर चूँकि पेट में कोई भोजन उपलब्ध नहीं होता है तो इस स्थिति में वो एसिड आपके खाने की नली पर प्रभाव ड़ालता है जिसकी वजह से एसिडिटी होती है।

ये भी पढ़ें: होठों का कालापन दूर करने का तरीका: Hothon ka kalapan door karne ka tarika


Edited by Amit Shukla

Comments

Fetching more content...