Create

अमलतास के फायदे : Amaltas Ke Fayde

फोटो- Health news
फोटो- Health news

घरों के आस पास पेड़ लगे होते हैं उनमें से कई जगह एक पेड़ अमलतास का भी देखा होगा। इस पेड़ पर लगे पीले रंग के फलों को देखकर लोग बहुत खुश होते हैं क्योंकि ये फूल देखने में बहुत सुंदर लगते हैं। इस पेड़ पर लगे फूल और छाल दोनों के बहुत फायदे हैं। इसके सेवन से कई बीमारियों को दूर किया जा सकता है। आयुर्वेद में इस पेड़ के हर भाग का इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता है। जानते हैं इसके फायदे।

इसे भी पढ़ें: खाली पेट टमाटर खाने के फायदे: khali pet tamatar khane ke fayde

अमलतास का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

अमलतास का पेड़ देखने में सुंदर होता है इस पेड़ पर पीले रंग के फूल खिलते हैं जो इसकी सुंदरता को ओर बढ़ा देते हैं। इस पेड़ के फल और छाल में औषधीय गुण होते हैं। इसमें एस्ट्रिंजेंट, कूलिंग, टॉनिक, लैक्सेटिव, ड्युरेटिक, कार्मिनिटिव, एंटी-इंफ्लामेटरी, पर्जेटिव और एंटी एमिटिक प्रॉपर्टिज होती हैं। इसका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

अमलतास के फायदे-

कब्ज की समस्या दूर करे- अक्सर लोगों को पेट की समस्या जैसे कब्ज, पाचन खराब रहना परेशानी देखने को मिलती है। ऐसे में अमलतास का फूल कब्ज (Constipation) को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए अमलतास के फूलों को पूरी रात पानी में रखें और सुबह इस पानी का सेवन करें।

बुखार होने पर- लोग अक्सर बुखार होने पर दवाई लेते हैं, लेकिन कुछ घरेलू तरीके भी बुखार में बहुत लाभ देते हैं। अगर अमलतास के पेड़ की जड़ का इस्तेमाल बुखार में किया जाए तो बहुत जल्द राहत मिलती है।

इसे भी पढ़ें: मेथी पाउडर के फायदे इन हिंदी: methi powder ke fayde in hindi

रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करें- अमलतास का पौधा स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इस पेड़ की छाल एंटीऑक्सीडेंट(Antioxidants) गुणों से भरपूर होती है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity) को मजबूत बनाता है।

त्वचा की समस्या- जिन लोगों को स्किन संबंधित परेशानी हो रही है जैसे त्वचा पर सूजन, एलर्जी आदि। तो उसके लिए अमलतास की पत्तियां बहुत फायदा करती हैं। इन पत्तियों का पेस्ट बनाकर त्वचा पर लगा लें।

घाव भरने के लिए- चोट लगने के बाद घाव को जल्द भरने के लिए अमलतास की पत्तियों का इस्तेमाल अच्छा होता है। घाव की ड्रेसिंग के लिए इसकी पत्तियों से रस निकालकर इस्तेमाल किया जाता है।

प्रेग्नेंसी की संभावना कम करे- अगर कोई महिला अनचाही प्रेग्नेंसी नहीं चाहती, तो इसके लिए अमलतास के फलों के बीज को पीस कर लगातार पांच दिनों तक सेवन करें। इससे संभोग करने के दौरान प्रेग्नेंसी की संभावना 70 प्रतिशत कम होती है।

इसे भी पढ़ें: बाजरे की रोटी के फायदे और नुकसान: Bajre ki Roti Ke Fayde Aur Nuksan

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment