Create

गर्मियों में बेल के फायदे - Garmiyon Mein Bel Ke Fayde In Hindi

गर्मियों में बेल के फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)
गर्मियों में बेल के फायदे (फोटो - sportskeedaहिंदी)

गर्मियों में कई प्रकार की बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है, जैसे दस्त, लू लगना, पेचिश आदि। ऐसे में बेल का सेवन काफी फायदेमंद हो सकता है। यह शरीर में पानी की कमी पूरा करने का एक अच्छा तरीका भी है। गर्मियों का मौसम आते ही ठंडे-मीठे फलों को पसंद करने वाले लोग बाजार से अपने पसंद के फल का चुनाव करते हैं। बेल के सेवन से अनेक लाभ पाए गए हैं, जो इसे गर्मियों के मौसम में सबसे बेहतर फल बनाता है। हिंदू धर्म में इसे एक पवित्र पौधा माना जाता है और पूजा में बेल के पत्तों का इस्तेमाल किया जाता है। बेल के फल में विटामिन और पोषक तत्वों की भरमार होती है। बेल के फल में विटामिन C, कैल्शियम, फाइबर, प्रोटीन और आयरन भी अधिक मात्रा में मिलता है। बेल के नियमित सेवन से शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति होती है, साथ ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। इस लेख में बेल के फायदे बताये गए हैं।

गर्मियों में बेल के फायदे - Garmiyon Mein Bel Ke Fayde In Hindi

डायबिटीज (Diabetes)

बेल में एंटी-डायबिटिक गुण पाया जाता है, जो मधुमेह और इसके जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। डायबिटीज का इलाज और इससे होने वाले जोखिम से बचने के लिए भी बेल फल का इस्तेमाल किया जा सकता है।

एनीमिया (Anemia)

एनीमिया एक ऐसी स्थिति है, जिसके कारण खून में रेड ब्लड सेल्स की कमी हो जाती है। इसका सबसे आम कारण है शरीर में आयरन की कमी। बेल के सेवन से आयरन की पूर्ति की जा सकती है, क्योंकि बेल के फल में आयरन की मात्रा पाई जाती है, जो एनीमिया को ठीक करने में मदद कर सकता है।

डायरिया (Diarrhea)

डायरिया की स्थिति में पतले दस्त होते हैं। बेल फल में एंटी-डायरिया गुण पाए जाते हैं जो न केवल डायरिया की चपेट में आने से बचाते हैं, बल्कि इससे होने वाले जोखिम से भी सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं।

माइग्रेन (Migraine)

बेल का सेवन सिरदर्द और माइग्रेन के जोखिम से आपको बचा सकता है। बेल में विटामिन C की मात्रा पाई जाती है और विटामिन C का सेवन माइग्रेन के रोगियों में न्यूरोजेनिक सूजन को ठीक करने का काम कर सकता है।

पीलिया (Jaundice)

पीलिया से बचने के लिए भी बेल फल के फायदे देखे गए हैं। वैसे तो पारंपरिक तौर पर बहुत पहले से ही पीलिया के इलाज के लिए बेल का प्रयोग किया जा रहा है। बेल के फल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो लिवर में होने वाली सूजन को कम कर पीलिया के उपचार में मदद कर सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment