Create
Notifications

काबुली चने के फायदे : Chickpeas Ke Fayde

काबुली चने के फायदे (source -google images)
काबुली चने के फायदे (source -google images)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

छोले या काबुली चना (chickpeas) में प्रोटीन सहित कई पोषक तत्व होते हैं, जो हड्डी, मांसपेशियों और त्वचा के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। जो लोग मांस-मछली का सेवन नहीं करते या कटौती करना चाहते है, उनके लिए छोले और चावल का एक व्यंजन, उदाहरण के लिए, आहार में महत्वपूर्ण मात्रा में प्रोटीन का योगदान कर सकता है। एक कप चना एक एडल्ट की दैनिक प्रोटीन की आवश्यकता का लगभग एक-तिहाई हिस्सा प्रदान कर सकता है। काबुली चने को आप उबाल कर या सब्जी की तरह पका कर भी खा सकते है। यह स्वाद में भी बहुत अच्छा होता है। काबुली चने के पोषक तत्व कई स्वास्थ्य स्थितियों को रोकने में भी मदद कर सकते हैं।

काबुली चने के फायदे : Chickpeas Ke Fayde In Hindi

ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करें (controls blood sugar levels)

अन्य फलियों की तरह, काबुली चना लंबे समय तक शरीर को धीरे-धीरे ऊर्जा प्रदान करते हैं और इस तरह ब्लड ग्लूकोज के स्तर को स्थिर करने में मदद करते हैं।

हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देना (Promotes Heart Health)

अध्ययनों से पता चलता है कि chickpeas में पाए जाने वाले गुण आर्टरीज में प्लाक (plaque) के निर्माण को रोकने मे मदद करते हैं और इस तरह स्वस्थ ब्लडप्रेशर के स्तर को बनाए रखते हैं और कार्डियक अरेस्ट (cardiac arrest) की संभावना को कम करते हैं। काबुली चना "खराब कोलेस्ट्रॉल" को संतुलित करता है और हृदय की समस्याओं को रोकता है।

वजन घटाने में मदद (Helps in weight loss)

फाइबर और प्रोटीन से भरपूर, काबुली चने पेट भरा हुआ महसूस करने और भूख को कम करने में मदद करते हैं। अन्य सब्जियों और फलों के साथ, काबुली चने आपके सलाद और स्नैक्स के लिए एक महत्वपूर्ण सामग्री के रूप में काम करते हैं।

सहायता पाचन (aid digestion)

काबुली चना फाइबर से भरपूर होता है। फाइबर पाचन में सहायता करता है और कब्ज जैसी संबंधित बीमारियों की संभावना को भी कम करता है। यह PH स्तर बनाए रखने में भी मदद करता है, जिससे पाचन की सुविधा होती है ।

कैंसर को रोकें (Prevents cancer)

फाइटोन्यूट्रिएंट्स (phytonutrients) और फाइबर से भरपूर, काबुली चने कैंसर सेल्स को और बढ़ने से रोकते हैं, खासकर पेट के कैंसर के मामले में।

बुढ़ापा के देरी से लक्षण आना (Delaying ageing)

विटामिन सी और E और Beta carotene जैसे एंटी–ऑक्सिडेंट से भरपूर, काबुली चने ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से लड़ने में मदद करते हैं और इस तरह उम्र बढ़ने में देरी देख सकते है या उम्र बढ़ने के लक्षण देरी से दिखते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...