Create

लिवर के लिए योगासन: Liver Ke Liye Yogasan

फोटो:Lybrate
फोटो:Lybrate

लिवर शरीर का वो अंग है जिसमें एक छोटी सी परेशानी भी बड़ी बन सकती है। आपका खाना पेट के बाद लिवर में जाता है। पेट से लिवर में जाते समय अगर कोई दिक्कत हुई या लिवर को दिक्कत हुई तो आपके लिए वो खाना जहर बन सकता है। ये बात समझाने के लिए काफी है कि लिवर की शरीर में क्या महत्ता है।

ये भी पढ़ें: जानिए कैसे पालतू जानवर करता है आपकी हेल्थ और फिटनेस को बेहतर

लिवर को ठीक रखने के लिए आप चाहें तो दवाइयों का सहारा ले सकते हैं। क्या आप हर महीने या हफ्ते पैसे खर्च करके सिर्फ अपने एक अंग को ठीक करने का प्रयास करना चाहेंगे जब ये आपके लिए एकदम मुफ्त में मौजूद और उपलब्ध है? पेट और लिवर को कमजोर ना समझें क्योंकि इसके कमजोर होने पर आपकी सेहत कमजोर हो सकती है।

लिवर को फिट रखने के लिए आप योग का सहारा ले सकते हैं। योग को निरोग रहने का सबसे बड़ा साधन माना जाता है। अगर आप योग के कारण निरोग हो गए तो आपको कभी भी किसी भी परेशानी से घबराना नहीं पड़ेगा। आइए आपको बताते हैं उन योगासनों के बारे में जिनको करके आप लिवर को ठीक रख सकते हैं।

लिवर के लिए योगासन

कपालभाति

इसका नाम आपको याद होगा क्योंकि कोई भी योग करने वाला सबसे पहले इसके बारे में ही बात करता है। इसे करना भी बेहद आसान है। आप पालथी मार कर बैठ जाएं और फिर गहरी सांस लें। इस सांस को आप अगले दस सेकेंड तक अपने अंदर रखें। इसके बाद आप उस साँस को बाहर छोड़ दें। इससे आपको लाभ होगा।

ये भी पढ़ें: खाना खाने के बाद नींबू पानी पीने के फायदे: Khaana Khaane ke baad neembu paani peene ke fayde

उष्ट्रासन

ये वो आसन है जिसे प्रतिदिन करना चाहिए। आप पहले वज्रासन में आ जाएं जिसका अर्थ है कि आप अपने पैरों के ऊपर अपने शरीर का भार रख दें और इस दौरान आपके पैर मुड़े होने चाहिए। इसके बाद ऊपर उठें और गहरी साँस छोड़ते हुए पीछे जाएं और दोनों पैरों की एड़ियों को उनकी तरफ वाले हाथों से पकड़ें। इस स्थिति में तब तक रहें जब तक आपका शरीर इसकी अनुमति दे और फिर नार्मल अवस्था में आ जाएं।

नौकासन

नौका मतलब बोट और इस आसन को करने के लिए आप पीठ के बल लेट जाएं। इसके बाद अपनी एडी और पंजे को मिलाएं और दोनों हाथों को कमर के साथ लगा लें। हथेली और गर्दन जमीन पर ही रहनी चाहिए। इसके बाद गर्दन और हाथों को ऊपर उठाएं। इस समय अपने शरीर का वजन हिप्स पर ड़ाल दें। तीस सेकेंड तक इसी स्थिति में रहने का प्रयास करें और फिर से नार्मल पोजीशन में आ जाएं।

ये भी पढ़ें: हाथ-पैरों में कमजोरी झुनझुनी का एहसास होना है किस बीमारी के लक्षण: haath pairon mein kamjori jhunjhuni ka ehsas hona hai kis beemaari ke lakshan

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment