Create
Notifications

रेटिना का घरेलू उपचार : Retina Ka Gharelu Upchar

रेटिना का घरेलू उपचार (source - sportskeeda hindi)
रेटिना का घरेलू उपचार (source - sportskeeda hindi)
Vineeta Kumar
visit

रेटिना आंख का सबसे पिछला हिस्सा है जो प्रकाश की पहचान करता है और संवेदनशील होता है। जब प्रकाश रेटिना से टकराता है, तो फोटोरिसेप्टर (photoreceptors) मस्तिष्क को संदेश भेजने के लिए छड़ (rods) और शंकु (cones) में रासायनिक परिवर्तन का कारण बनते हैं। यांत्रिक चोटों या मधुमेह जैसे रोगों से रेटिना की समस्याएं कई कारणों से आ सकती हैं। यह परिसंचरण या ऑक्सीजन की कमी से भी आ सकती है। रेटिना की समस्याओं के लिए चिकित्सा उपचार में सर्जरी, लेजर उपचार और बहुत कुछ शामिल हैं। वे अक्सर सफल होते हैं, लेकिन हमेशा नहीं। प्राकृतिक उपचार का उपयोग अन्य उपचारों और दवाओं के साथ किया जा सकता है। रिसर्च में कुछ आश्चर्यजनक परिणाम देखे गए हैं। प्राकृतिक उपचार सुरक्षित हैं और यह अन्य उपचारों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे। रेटिना की देख-भाल के लिए आप आखों की रक्षा करें, आगे दिए गए उपायों का पालन करें -

रेटिना का घरेलू उपचार : Retina Ka Gharelu Upchar In Hindi

नियमित रूप से अपनी आंखें धोएं (Regularly wash your eye)

नियमित रूप से अपनी आंखें धोने से धूल और गंदगी को हटाने में मदद मिलेगी। अन्यथा, गंदगी जम जाती है और जलन और लाली का कारण बनती है। सुनिश्चित करें कि आप सीधे आंखों पर पानी के छींटे न डालें।

आंखों की मांसपेशियों को उत्तेजित करना (Stimulating eye muscles)

यह एक सरल प्रक्रिया है जिसे सुबह ही करना चाहिए। इसमें आपके मुंह में पानी भरना और आंखों पर ठंडे पानी के छींटे डालना शामिल है। आपके मुंह में भरा पानी दबाव डालता है और आंखों की मांसपेशियों को उत्तेजित करने में मदद करता है।

दृष्टि मजबूत करने वाले भोजन का सेवन करें (Consume vision strengthening food)

भोजन आपके शरीर को कार्य करने के लिए ऊर्जा प्रदान करने का प्रमुख स्रोत है। दृष्टि को मजबूत करने वाले खाद्य पदार्थों में ब्रोकली, पालक, गाजर सहित कई फल और सब्जियां शामिल हैं, और शकरकंद को आपकी दृष्टि में सुधार के लिए आंखों के रेटिना की देखभाल के घरेलू उपचार में गिना जा सकता है।

नेत्र व्यायाम (Eye exercise)

नेत्र व्यायाम सरल है जिसमें आईबॉल को बाएं से दाएं घुमाना शामिल है, इसके बाद ऊपर और नीचे की गति होती है। इस अभ्यास को लगातार तीन से चार बार दक्षिणावर्त और वामावर्त दोहराएं। यह उन आंखों की देखभाल के घरेलू उपचारों में से एक है जिसे आपकी आंखों की रोशनी में सुधार के लिए रोजाना कम से कम एक बार किया जाना चाहिए। जल्दी रोशनी कम होने और चश्मा पहनने से बचने के लिए बच्चों को रोजाना इस अभ्यास को करने की आदत विकसित करनी चाहिए।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now