Create

गिलोय जूस पीने का सही समय और 5 फायदे - Right Time And Benefits Of Drinking Giloy Juice

गिलोय जूस पीने का सही समय और 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
गिलोय जूस पीने का सही समय और 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

गिलोय (Giloy) एक प्रकार की जड़ीबूटी है। गिलोय को वैज्ञानिक रूप से हिंदी में टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया या गुडुची के नाम से जाना जाता है। गिलोय का तना अपनी उच्च पोषण सामग्री और इसमें पाए जाने वाले एल्कलॉइड के कारण अत्यधिक प्रभावी माना जाता है लेकिन जड़ और पत्तियों का भी उपयोग किया जा सकता है। यह जड़ी-बूटी अपने औषधीय गुणों के कारण उपयोग की जाती है। इसका सेवन करने के लिए गिलोय का जूस पीया जा सकता है। इस लेख में गिलोय जूस (Giloy juice) पीने का सही समय और फायदे बताये गए हैं।

गिलोय जूस पीने का सही समय और 5 फायदे - Right Time And Benefits Of Drinking Giloy Juice In Hindi

गिलोय जूस पीने का सही समय : Right Time To Drink Giloy Juice In Hindi

गिलोय जूस आप प्रतिदिन 2 बार ले सकते हैं। इसका सेवन पानी में मिलाकर भी किया जा सकता है। गिलोय का जूस बनाने के लिए आपको पौधे की कुछ साफ, कटी हुई शाखाओं की जरूरत होती है। इन कटी हुई शाखाओं को एक कप पानी के साथ बारीक, हरे तरल पेस्ट में ब्लेंड करें। अब इस हरे पेस्ट को छानकर गिलोय का जूस बना लें। 10 से 15 ml गिलोय जूस का सेवन करने से लाभ मिल सकते हैं।

गिलोय जूस पीने के फायदे : Benefits Of Drinking Giloy Juice In Hindi

1. पुराना बुखार ठीक करे (cure chronic fever)

आयुर्वेद में बुखार के दो कारण होते हैं - अमा (शरीर में खराब पाचन के कारण विषाक्त पदार्थ रह जाता है) और दूसरा कुछ बाहरी कणों के कारण होता है। गिलोय पुराने, बार-बार होने वाले बुखार में अद्भुत काम करता है। यह एक विरोधी भड़काऊ, ज्वरनाशक जड़ी बूटी है जो संक्रमण से लड़ने के लिए आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है और जल्दी ठीक होने में भी मदद करती है। गिलोय में ज्वरघना (antipyretic) गुण होता है जो बुखार को कम करता है।

2. डेंगू बुखार के इलाज में उपयोगी (Useful in the treatment of dengue fever)

गिलोय एक ज्वरनाशक जड़ी बूटी है। यह डेंगू बुखार में प्लेटलेट काउंट में सुधार करती है और जटिलताओं की संभावना को कम करती है। गिलोय के नियमित सेवन से डेंगू के दौरान रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार होता है और शीघ्र स्वस्थ होने में भी मदद मिलती है। बेहतर परिणाम के लिए गिलोय के रस को तुलसी के कुछ पत्तों के साथ उबालें और प्लेटलेट काउंट बढ़ाने के लिए पिएं।

3. कोरोना-वायरस संक्रमण के इलाज में उपयोगी (Useful in the treatment of corona-virus infection)

गिलोय प्रतिरक्षा को बढ़ा सकता है इसलिए यह विभिन्न प्रकार के बुखारों के लिए विशेष रूप से कोरोना संक्रमण जैसे वायरल बुखार के लिए उपयोगी हो सकता है। हालांकि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि गिलोय कोरोना संक्रमण को ठीक कर सकता है लेकिन इससे लड़ने के लिए यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है।

4. ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करे (control blood sugar level)

आयुर्वेद में, गिलोय को 'मधुनाशिनी' के रूप में जाना जाता है जिसका अर्थ है 'शुगर का नाश करने वाला'। यह इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करता है जो अंततः ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करता है। गिलोय मधुमेह की जटिलताओं जैसे अल्सर, गुर्दे की समस्याओं के लिए भी उपयोगी है।

5. इम्युनिटी बढ़ाता है (boosts immunity)

यह जड़ी बूटी हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करती है और एक व्यक्ति में जीवन शक्ति को बढ़ाती है। गिलोय का रस या कड़ा अपने आहार में दिन में दो बार शामिल करें, इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार हो सकता है। यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों (toxins) को बाहर निकालने में मदद करता है। गिलोय का जूस आपकी त्वचा को डिटॉक्सीफाई भी करता है और आपकी त्वचा को भी निखारता है। गिलोय का उपयोग लिवर की बीमारियों, यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI) और दिल से जुड़ी समस्याओं के लिए भी किया जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...