Create

शतावरी चूर्ण के 5 फायदे - Shatavari Churan Ke 5 Fayde

शतावरी चूर्ण के 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
शतावरी चूर्ण के 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

शतावरी (Asparagus) की जड़, जड़ी-बूटियों में सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। शुतमूल या शतावरी बहुत सी बीमारियों का इलाज करने के लिए जानी जाती है। आयुर्वेद में शतावरी के गुणों का एक लंबा वर्णन मिलता है और कई बीमारियों के रोकथाम व इलाज में इसे उपयोगी माना गया है। शतावरी एक प्रकार की झाड़ीदार बेल है जिसकी जड़े जमीन के अंदर तक फैली होती हैं। इन जड़ो के इस्तेमाल से ही इसका चूर्ण बनाया जाता है। यह शतावरी चूर्ण महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसके इस्तेमाल से महिलाओं की विभिन्न समस्याओं क समाधान हो सकता है। पुरुषों के लिए भी यह फायदेमंद होती है। आइये इस लेख के माध्यम से शतावरी चूर्ण (Shatavari Churan) के फायदों के बारे जानकारी प्राप्त करते हैं।

शतावरी चूर्ण के 5 फायदे - Shatavari Churan Ke 5 Fayde In Hindi

1. इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार (Boosts immunity)

शतावरी के सेवन से शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है, जिससे शरीर स्वस्थ व फिट बना रहता है। शतावरी में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो शरीर की इम्युनिटी क्षमता बढ़ाने में मदद करते हैं।

2. अनिद्रा की समस्या में (Treats insomnia)

नींद ना आने की समस्या होने पर एक गिलास दूध के साथ शतावरी चूर्ण के सेवन करने से लाभ मिलेंगे और अच्छी नींद आएगी। अनिद्रा से जूझ रहे लोगों को शतावरी जैसे आयुर्वेदिक हर्ब्स का सेवन जरूर करना चाहिए।

3. बवासीर (Treats Piles)

बवासीर की समस्या में शतावरी चूर्ण का उपयोग फायदेमंद होता है। 2 ग्राम शतावरी चूर्ण को दूध के साथ सेवन करने से लाभ होता है।

4. पथरी (Treats stone)

पथरी की बीमारी से परेशान मरीज 20-30ml शतावरी चूर्ण से बने रस में बराबर मात्रा में गाय के दूध को मिलाकर पिएं। इससे पुरानी पथरी भी जल्दी गल जाती है।

5. कब्ज़ व अपच में (Prevents constipation)

पेट से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के लिए भी शतावरी चूर्ण के फायदे अच्छे हैं। इसके नियमित सेवन से पेट की कब्ज, अपच, गैस व एसिडिटी में आराम मिलता है। शारीरिक स्वास्थ्य के लिए पेट का स्वस्थ रहना बेहद जरूरी होता है, इसके लिए आप शतावरी चूर्ण के सेवन के साथ-साथ अपने खानपान पर भी बराबर ध्यान दें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment