Royal Rumble 2019: ब्रॉक लैसनर vs फिन बैलर का टाइटल मैच बुक करने की 5 बड़ी वजह

Why has WWE booked this match for the Royal Rumble?

WWE में इस हफ्ते हुई मंडे नाइट रॉ फैंस को लंबे समय तक याद रहेगी। रॉ के इस हफ्ते के एपिसोड में फैंस को इतनी सारी चौंकाने वाली चीजें देखने को मिली जिसकी उन्हें उम्मीद नहीं थी। इस हफ्ते रॉ के एपिसोड में ब्रॉन स्ट्रोमैन ने विंस मैकमैहन की गाड़ी तोड़ दी जिसके बाद विंस ने रॉयल रंबल से लैसनर बनाम स्ट्रोमैन का मुकाबला हटा लिया।

इसके बाद फैंस को रॉ के एपिसोड में यूनिवर्सल चैंपियनशिप के लिए नंबर वन कंटेंडर के लिए फैटल 4वे मुकाबला देखने को मिला। इस मुकाबले में फिन बैलर की जीत हुई। जिसके बाद अब रॉयल रंबल पीपीवी में फिन बैलर यूनिवर्सल टाइटल के लिए ब्रॉक लैसनर के खिलाफ मुकाबला करते हुए नज़र आएंगे।

हालांकि कई फैंस इस बात को जानना चाहते हैं कि आखिर रॉयल रंबल पीपीवी में लैसनर के खिलाफ फिन बैलर को क्यों बुक किया गया। इसी कड़ी में आइए एक नज़र डालते हैं रॉयल रंबल पीपीवी में लैसनर के खिलाफ फिन बैलर को बुक करने की 5 बड़ी वजहों पर।

फैंस को एक यादगार मुकाबला देने के लिए

There's a new regime in charge and they have promised change

TLC पीपीवी में हार के बाद बैरन कॉर्बिन की रॉ में सारी पावर खत्म हो गई थी। इसके बाद मैकमैहन परिवार ने रॉ और स्मकैडाउन लाइव को अपने कंट्रोल में ले लिया था। उन्होंने फैंस से वादा किया था कि वह शो में नए सुपरस्टार्स को मौका देंगे।

फिन बैलर जोकि पहले यूनिवर्सल चैंपियन रह चुके हैं लेकिन चोट के कारण उन्हें टाइटल एक दिन में गंवाना पड़ा। ऐसे में फैंस लंबे समय से फिन बैलर के रीमैच की उम्मीद कर रहे थे। WWE को लगा की रॉयल रंबल ही सही मौका है जब वह फिन बैलर को लैसनर के खिलाफ मुकाबले में शामिल कर एक यादगार मुकाबला दे सकता है।

Get WWE News in Hindi Here

यूनिवर्सल टाइटल के लिए मुकाबला करने के सही हकदार हैं फिन बैलर

What a great match this could potentially be!

विंस मैकमैहन इस बात का दावा कर चुके हैं कि फिन बैलर का साइज ऐसा नहीं है कि रॉ के मेन इवेंट में मुकाबला कर सके। इस बात को ध्यान में रखते हुए अगर विंस मैकमैहन ने रॉयल रंबल पीपीवी में लैसनर के खिलाफ उन्हें मौका दिया है तो यह वाकई अच्छी बात है।

फिन बैलर जब से WWE में आए हैं उसके बाद से उन्होंने कई शानदार मुकाबले दिए हैं। उनकी परफॉर्मेंस को देखकर कोई यह नहीं कह सकता है कि वह मेन इवेंट स्टार नहीं बन सकते हैं। हमारे ख्याल से वर्तमान में मंडे नाइट रॉ के रोस्टर पर नज़र डालें तो फिन बैलर के अलावा कोई भी सुपरस्टार यूनिवर्सल टाइटल के लिए मुकाबला करने का हकदार है।

मौके का इंतजार कर रहे WWE सुपरस्टार्स का भरोसा बनाए रखने के लिए

इस बात से लगभग सभी फैंस सहमत होंगे कि WWE एक ऐसी जगह है जहां एक रैसलर रातों रात सुपरस्टार बन जाता है। ऐसे में हर रैसलर इस कंपनी का हिस्सा बनना चाहता है। WWE में ऐसे कई सुपरस्टार्स हुए हैं जो रातों-रात रैसलर्स से सुपरस्टार्स बन गए।

हाालंकि कई बार ऐसा होता है कि कई सुपरस्टार्स को दूसरे सुपरस्टार्स के मुकाबले में कम मौके मिलते हैं। ऐसे में कंपनी ने फिन बैलर को लैसनर के खिलाफ मुकाबले में बुक करते हुए एक संदेश देने की कोशिश की है, कि जिन सुपरस्टार्स को कंपनी में कम मौके मिल रहे है वह परेशान ना हो और कंपनी पर भरोसा बनाए रखते हुए अपने मौके का इंतजार करें।

कद (हाइट) में छोटे सुपरस्टार्स के साथ शानदार मुकाबला देते हैं ब्रॉक लैसनर

Brock Lesnar vs. Daniel Bryan was a really good match

इसमें कोई शक नहीं है कि ब्रॉक लैसनर ने कंपनी ने अनगिनत शानदार मुकाबले दिए हैं लेकिन क्या आपको ब्रॉक लैसनर बनाम एजे स्टाइल्स, ब्रॉक लैसनर बनाम डेनियल ब्रायन के मुकाबले याद हैं। ये मुकाबले पिछले साल हुए हैं और कई फैंस को ये मुकाबले अच्छी तरह से याद होंगे।

इन मुकाबलों में लैसनर के प्रतिद्वंदी रहे सुपरस्टार्स कद में उनसे छोटे हैं बावजूद इसके लैसनर ने उनके खिलाफ शानदार मुकाबले दिए हैं। फिन बैलर भी कद (हाइट) में लैसनर से छोटे हैं। ऐसे में कंपनी ने इस बात को भी ध्यान में रखते हुए ये मुकाबला बुक होगा।

केवल जॉन सीना ही ऐसा कर सकते थे

जॉन सीना की WWE में वापसी एक तय समय के लिए है। इस दौरान कंपनी चाहेगी कि नए स्टार को सीना के खिलाफ जीत के लिए बुक किया जाए ताकि भविष्य में इन स्टार्स को कंपनी का बड़ा सुपरस्टार बनाया जा सके। रॉ के इस हफ्ते के एपिसोड में फिन बैलर ने सीना को हराकर लैसनर के खिलाफ मुकाबले में अपनी जगह बनाई।

कंपनी इस बात को अच्छी तरह से जानती है कि फिन बैलर में वह क्षमता है कि वह कंपनी के दूसरे जॉन सीना बन सकते हैं। फिलहाल अब यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या फिन बैलर रॉयल रंबल में ब्रॉक लैसनर को हराकर यूविवर्सल चैंपियन बन पाते हैं या नहीं।

लेखक: रिजु दासगुप्ता, अनुवादक: अंकित कुमार