13 बार के WWE चैंपियन ने TLC में चौंकाने वाली वापसी कर मचाया बवाल और जीता बड़ा टाइटल

Enter caption

WWE टीएलसी में जो फैंस ने सोचा था कुछ ऐसा ही देखने को मिला। WWE सुपरस्टार शार्लेट फ्लेयर ने आखिरकार वापसी कर ली है। टीएलसी में नाया जैक्स और शायना बैजलर का मुकाबला असुका और मिस्ट्री पार्टनर के साथ हुआ। इस मिस्ट्री पार्टनर के रूप में शार्लेट फ्लेयर ने वापसी की।

यह भी पढ़ें:TLC में WWE चैंपियनशिप मैच का हुआ बेहद चौंकाने वाला अंत, मनी इन द बैंक ब्रीफकेस भी हुआ कैशइन

WWE शार्लेट फ्लेयर ने की जबरदस्त वापसी

WWE सुपरस्टार शार्लेट फ्लेयर का हर कोई इंतजार कर रहा था। 12 बार की विमेंस वर्ल्ड चैंपियन शार्लेट फ्लेयर इंजरी के कारण कई महीनों से रिंग से बाहर चल रही थीं। कुछ दिन पहले कई रिपोर्ट्स में ये खबरें आई थी कि शार्लेट फ्लेयर अब फिट हो चुकी हैं और वो वापसी करने वाली हैं। दरअसल पहले इस मैच में लाना थी। लाना और असुका का मुकाबला नाया जैक्स और शायना बैजलर के साथ होने वाला था। ये विमेंस टैग टीम चैंपियनशिप के लिए मैच था। लेकिन शायना बैजलर और नाया जैक्स ने लाना को इंजर्ड कर दिया था। इंजरी के कारण लाना इस मैच से बाहर हो गए थीं।

ये भी पढ़ें:- 4 कारण क्यों WWE रोमन रेंस और गोल्डबर्ग के बीच भविष्य में मैच प्लान कर रहा है

इसके बाद WWE ने मिस्ट्री पार्टनर का ऐलान कर दिया था। उम्मीद यही थी कि शार्लेट फ्लेयर की वापसी होगी। और कुछ ऐसा ही हुआ। इस मैच में शानदार वापसी शार्लेट फ्लेयर ने की। यहीं नहीं आते ही नाया जैक्स और शायना बैजलर को बुरी तरह पीटा। उनकी दमदार वापसी से असुका और वो नए विमेंस टैग चैंपियन भी बन गए है। शार्लेट ने अब इतिहास रच दिया है। वो आजतक टैग टीम चैंपियन नहीं बनीं थी लेकिन अब ये कारनामा भी उन्होंने कर दिया है। अब कुल 13 बार वो टाइटल अपने नाम कर चुकी हैं। ये बहुत बड़ी बात उनके लिए अब हो गई है। फिलहाल अब असुका और शार्लेट फ्लेयर नए विमेंस टैग टीम चैंपियन बन गए है। लाना की जगह मिस्ट्री पार्टनर के रूप में शार्लेट फ्लेयर ने वापसी की और बवाल मचा दिया। असुका रॉ विमेंस चैंपियन भी हैं। असुका के पास अब दो चैंपियनशिप हो गई है। आने वाले टाइम पर अब और मजा आने वाला है। शार्लेट फ्लेयर की वापसी से अब विमेंस डिवीजन में औऱ भी मजा आ गया है।

यह भी पढ़ें: 4 WWE सुपरस्टार्स द्वारा किए गए खतरनाक अटैक और चीटिंग से रोमन रेंस को मिली थी करियर की सबसे करारी हार