WWE दिग्गज Randy Orton ने बहुत बड़े रिकॉर्ड को तोड़ने की जताई इच्छा, John Cena और Ric Flair को पीछे छोड़कर रचेंगे इतिहास?

WWE दिग्गज रैंडी ऑर्टन SmackDown का हिस्सा बन चुके हैं
WWE दिग्गज रैंडी ऑर्टन SmackDown का हिस्सा बन चुके हैं

Randy Orton: रैंडी ऑर्टन (Randy Orton) की WWE टीवी पर वापसी हो चुकी है और वापसी के बाद उन्होंने द ब्लडलाइन (Bloodline) के साथ अपनी दुश्मनी जारी रखी है। रैंडी ने अपने करियर में काफी कुछ हासिल किया है और वो 14 बार के वर्ल्ड चैंपियन रह चुके हैं। हालांकि, उन्हें अभी भी कंपनी में काफी कुछ हासिल करना बाकी है।

एपेक्स प्रिडटेर हाल ही में यूएस चैंपियन लोगन पॉल (Logan Paul) के Impaulsive पॉडकास्ट पर मौजूद थे। इस दौरान WWE दिग्गज ने कई विषयों पर चर्चा की। साथ ही, उन्होंने कहा कि वो WWE इतिहास में सबसे ज्यादा वर्ल्ड चैंपियनशिप को होल्ड करना चाहते हैं। अगर रैंडी ऑर्टन यह उपलब्धि हासिल करते हैं तो वो जॉन सीना (John Cena) और रिक फ्लेयर (Ric Flair) को पीछे छोड़ देंगे।

बता दें, सीना & रिक के नाम 16-16 वर्ल्ड चैंपियनशिप जीतने का रिकॉर्ड है और वाइपर इस रिकॉर्ड को तोड़ने से केवल दो वर्ल्ड टाइटल जीत दूर हैं। ऑर्टन ने हाल ही में लोगन पॉल के Impaulsive पॉडकास्ट पर बात करते हुए कहा-

"जरूर मैं वो हर चीज़ करना चाहता हूं जो कि कर सकता हूं। मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी अपने करियर को लंबा खींचना, घर जाना, अपने बच्चों के साथ खेलना, दर्द में नहीं, यह मेरा अंतिम लक्ष्य होगा। लेकिन मैं WWE में जितनी ज्यादा उपलब्धियां हासिल करूंगा उतना अच्छा रहेगा।"

Randy Orton ने WWE में आखिरी बार वर्ल्ड टाइटल कब जीता था?

youtube-cover

रैंडी ऑर्टन साल 2020 में हील की भूमिका में थे। इस दौरान उनका उस वक्त के WWE चैंपियन ड्रू मैकइंटायर के साथ फिउड देखने को मिला था। रैंडी को Hell in a Cell 2020 में मैकइंटायर के खिलाफ WWE चैंपियनशिप मैच लड़ने का मौका मिला था। ड्रू ने इस मुकाबले में ऑर्टन को तगड़ी फाइट दी थी लेकिन अंत में दिग्गज ने स्कॉटिश वॉरियर को RKO देकर पिन करते हुए मैच जीत लिया था।

इस जीत के साथ ही एपेक्स प्रिडटेर अपने WWE करियर में 14वीं बार वर्ल्ड चैंपियन बनने में कामयाब रहे थे। हालांकि, वाइपर WWE चैंपियनशिप को केवल 22 दिन होल्ड कर पाए थे। इसके बाद ड्रू मैकइंटायर ने Raw के एक एपिसोड के दौरान रैंडी ऑर्टन को हराते हुए उनसे WWE चैंपियनशिप वापस जीत ली थी।