Create

आकर्ण धनुरासन कैसे और क्यों करें: Akarna Dhanurasana Kaise aur kyu kare?

फोटो- Healthnews24seven
फोटो- Healthnews24seven

योग करने से शरीर में फुर्ती बनी रहती है औऱ व्यक्ति सेहतमंद भी रहता है। लेकिन योगासन भी अलग-अलग तरह के होते हैं। जैसे- कमर और कंधों के दर्द के लिए आकर्ण धनुरासन होता है। जानिए आकर्ण धनुरासन कैसे और क्यों करना चाहिए।

ये भी पढ़ें: अधो मुख श्वानासन कैसे और क्यों करें: Adho Mukha Svanasana Kaise aur kyu kare?

कैसे करें आकर्ण धनुरासन-

इस आसन के करने के लिए सबसे पहले पैरों को सामने फैलाकर बैठ जाएं और अपनी एड़ियों और पंजों को आपस में मिला लें। इसके लिए अब अपने दाएं हाथ से बाएं पैर के अंगूठे को पकड़ लें और बाएं हाथ से दाएं पैर के अंगूठे को पकड़ना है। इसके बाद अपने बाएं हाथ से दाएं पैर को मोड़ते हुए अपना अंगूठा बाएं कान के पास लेकर आएं। इस दौरन अपनी कोहनी को ऊपर की तरफ रखें और आप सामने की तरफ देखने की कोशिश करें। इस आसन के दौरान गहरी-गहरी सांसें भरते और छोड़ते रहें।

ये भी पढ़ें: बालासन कैसे और क्यों करें Balasana Kaise aur kyu kare?

आकर्ण धनुरासन करने के फायदे-

फेफड़ो के लिए फायदेमंद- आकर्ण धनुरासन करने के फेफडे़ मजबूत होते हैं। आज के समय में बढ़ते प्रदूषण की वजह से लोगों को फेफड़ों और सांस की समस्या देखने को मिलती है, जिसकी वजह से लोग बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। लेकिन फेफड़ो को मजबूत बनाने के लिए आकर्ण धनुरासन करना फायदेमंद होता है।

शरीर में खून का प्रवाह बेहतर करें- अगर शरीर को खून का प्रवाह सही तरीके से होता है तो आप सेहतमंद रहते हैं। इसके लिए आकर्ण धनुरासन का अभ्यास करना चाहिए क्योंकि इससे पूरे शरीर की नसें औऱ नाड़ियों में रक्त प्रवाह अच्छा होता है। इस आसन के अभ्यास से दिल के रोगों से भी बचाव रहता है।

ये भी पढ़ें: करेला खाने के बाद क्या नहीं खाना चाहिए: karela khane ke baad kya nahi khana chahiye

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment