Create

गर्मी से बचने के लिए आयुर्वेदिक उपाय : Garmi Se Bachne Ke Liye Ayurvedic Upay

गर्मी से बचने के लिए आयुर्वेदिक उपाय (फोटो - sportskeeda hindi)
गर्मी से बचने के लिए आयुर्वेदिक उपाय (फोटो - sportskeeda hindi)

गर्मी का मौसम आते ही कुछ लोगों के शरीर का तापमान अधिक बढ़ जाता है। जिसकी वजह से उनके शरीर में अक्सर पानी की कमी देखने को मिलती है। ऐसे में क्या कभी आपने सोचा है कि गर्मी के मौसम में शरीर का तापमान बढ़ने के क्या कारण हैं (Body Heat causes In Hindi)? आपको बता दें इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। लेकिन कुछ आयुर्वेदिक उपाय (Ayurvedic Recipe To Reduce Body Heat In Hindi) अपनाकर आप अपने शरीर को ठंडा रख सकते हैं। जानते हैं इसके बारे में।

गर्मी को कम करने के आयुर्वेदिक उपाय - Garmi Se Bachne Ke Liye Ayurvedic Upay In Hindi

लहसुन - लहसुन का उपयोग अक्सर खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है। लहसुन में जीवाणुरोधी गुण होते हैं और इसलिए इसमें बुखार, खांसी और सर्दी के लिए बड़ी उपचार शक्ति होती है। लेकिन गर्मी से बचने के लिए भी लहसुन का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन इस बात का ध्यान रहे कि लहसुन गर्म होता है तो इसे बहुत ही कम मात्रा में सेवन करें।

बेल का शरबत पीएं - गर्मी (heatstroke) से बचने के लिए बेल का सेवन लाभकारी होता है। अक्सर बजार में जगह-जगह बेल का शरबत मिल जाता है। जिसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी (vitamin c) के साथ-साथ फाइबर बहुत ज्यादा मात्रा मेें होता है। बेल का शरबत पीने से शरीर ठंडा रहता है। और लू से बचाव होता है।

खसखस - गर्मियों के दिनों में शरीर मेंं होने वाली गर्मी को शांत करके जलन को नियंत्रित करने के लिए खसखस बहुत लाभकारी है। इसके अलावा यदि किसी के शरीर में पित्त दोष की खराबी हैं तो उस कंडीशन में आप खस को लेना शुरु कर सकतेे है।

गिलोय का सेवन - गिलोय का सेवन अक्सर लोग अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता ( immunity ) को बढ़ाने के लिए करते हैं। गिलोय एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जो आपको कई समस्या से बचा सकती है। इसके साथ ही गिलोय शरीर के बढ़े हुए तापमान को नियंत्रित करके उसे कम करने में मदद करती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment