Create

बस 5 मिनट में बैक पेन से परमानेंट छुटकारा पाने के लिए करें ये आसान सा योगासन

फोटो: Pexels
फोटो: Pexels

शरीर में दर्द होना (Body Pain) आपके शरीर को परेशानी में ड़ाल देता है। अगर आपके शरीर में दर्द हो रहा है और खासकर पीठ में, तो ये इस बात का संकेत है कि आपके शरीर को एक स्ट्रेचिंग की जरूरत है। इस दौरान जिम वाली स्ट्रेचिंग ना करने लगें क्योंकि वो आपके शरीर को उतना लाभ नहीं पहुंचाएगी।

ये भी पढ़ें: जानिए वो एक योगासन जो एक साथ दस योगासन को करने के लाभ दे और बनाइए सेहत को चुस्त और दुरुस्त

पीठ में दर्द है तो आप खड़े होकर स्ट्रेचिंग भी नहीं कर सकते हैं क्योंकि एक गलत टर्न और आपके लिए परेशानियाँ बढ़ सकती हैं। पेट या पीठ दोनों में कोई भी दिक्कत हो तो आप सिर्फ एक ही आसन से उसे ठीक कर सकते हैं। यहाँ हम मोटापा कम करने की बात नहीं कर रहे हैं। आइए आपको उस आसन के बारे में बताते हैं जो पलक झपकते ही आपके पीठ के दर्द को गायब कर देगा।

एक योगासन जो हमेशा के लिए बैक पेन को दूर कर दे

भुजंगासन (Bhujangasana)

जी हाँ, भुजंगासन ही वो एक सबसे कारगर तरीका है जिससे आप सेकेंड्स में अपने बैक पेन को खत्म कर सकते हैं। ये सुनने में अजीब लग सकता है कि भला एक आसन आपके पीठ और पेट के विकारों को दूर कैसे कर सकता है (मोटापे के अलावा)। आइए आपको बताते हैं इसको सही से करने का वो तरीका जो आपके शरीर को एकदम फिट कर देगा और बैक पेन को इतिहास का हिस्सा बना देगा।

भुजंगासन करने का सही तरीका (How to do Bhujangasana)

पेट के बल लेट जाएं (Rest with your face down)

पेट को शरीर का सबसे जरूरी अंग माना जाता है क्योंकि यहीं से खाना पचकर दो से अधिक हिस्सों में शरीर में जाता है। खाने का एक हिस्सा विटामिन्स और मिनरल्स का होता है जो आपके शरीर में जाता है, जबकि दूसरा मल एवं मूत्र के रूप में शरीर से बाहर हो जाता है। अपने पेट के बल जमीन पर लेट जाएं और साँसों को नार्मल तरह से लेते रहें।

ये भी पढ़ें: छाती और पीठ में दर्द होने का कारण: Chaati Aur Peeth Mein Dard Hone Ka Kaaran

हथेलियों को कंधों के नीचे लेकर आएं (Bring Palms Beneath Shoulders)

एक बड़ी गलती जो कई लोग करते हैं वो ये कि वो आसन की मुद्रा का ध्यान नहीं रखते हैं। आपको अपने हाथों की हथेलियों को कंधे के नीचे लाना है। ध्यान दें कि ना पीछे, ना आगे, ना किसी भी अन्य प्रकार के स्थान पर ले जाना है जिसमें नाभि के साथ में रखना शामिल है। हाथों को उनकी सही जगह रखकर आप इसका लाभ उठाएं।

हाथों की ताकत से शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर उठाएं (Lift your upper body with the help of your hand strength)

हाथों को उनकी जगह पर रखकर, जिसमें हथेलियाँ नीचे की तरफ हों (Palm Down), आप शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर उठाएं (Lift Upper Body from waist up with the strength of your hands)। कमर के नीचे का हिस्सा जमीन पर ही रहेगा और सिर्फ कमर या नाभि तक का हिस्सा ही ऊपर उठाएं। इस दौरान आपके पैर एक साथ जुड़े रहेंगे और कंधे भी दूर रहेंगे (Feet Together, and Shoulder at their space, don't bring them together)। इस स्थिति में दस से बीस सेकेंड तक खुद को रखें और फिर नीचे ले आएं (Hold for 10 to 20 seconds and then return to normal position)।

अगर हाथों में दर्द है तो इसे अपनाएं (If Facing Pain in the arms, try this)

अगर आपके हाथों में दर्द है तो आप अपने हाथों को एक साथ लाएं और ठुड्डी के नीचे रख लें (If Pain in the arms, bring your palms together face down, and put them under the chin)। इसके बाद अपनी ठुड्डी इसके ऊपर रख लें और अब ऊपर दी गई विधि को दोहराएं (Now place your chin over it and repeat the exercise in the previous point)। आप इस बात का ध्यान रखें कि आपके हाथ एकदम सीधे होने चाहिए।

अपने हाथों को मोड़ें नहीं और जितनी देर तक आप उस अवस्था में रह सकें तब तक रहें। अगर आप चाहें तो इसे लगातार दस से बीस बार भी कर सकते हैं। (Ensure that your hands are not folded. They should be kept absolutely straight and stay in that position for as long as possible. You can do it continously for 10 to 20 times.)।

ये भी पढ़ें: सुबह खाली पेट तुलसी खाने के फायदे: Subah Khali Pet Tulsi Khaane Ke Fayde

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment