Create

आंतों में गैस के लक्षण: Aanton Mein Gas Ke Lakshan

फोटो: Satyagrah
फोटो: Satyagrah

पेट में कोई भी परेशानी होने का अर्थ है कि आपने दिक्कत को न्योता दिया है। पेट आपके शरीर का वो अंग है जिसको सिर्फ अच्छे अनुभव ही होने चाहिए। अपच, खट्टी डकारें, खाने का मुँह के रास्ते वापस आना या पेट का साफ ना होना हो, ये सब पेट में परेशानी का कारण होते हैं जो अच्छी बात नहीं है।

ये भी पढ़ें: सिर दर्द और आँखों में दर्द के कारण इन हिंदी: Sar Dard Aur Aankhon Mein Dard Ke Kaarn In Hindi

पेट के साथ साथ आंतें भी परेशानी का हिस्सा बन जाती हैं और इसके कारण आँतों में भी गैस बनने लगती है। गैस शरीर में बनती है लेकिन जरूरत से ज्यादा गैस बनना अच्छा नहीं है। गैस्ट्रो के मरीज पेट और आंत से जुड़ी हुई परेशानी के कारण होते हैं और इसकी वजह से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

पेट में गैस बनना एक स्वाभाविक क्रिया है क्योंकि आपके पेट में खाना पचता है और इस पाचन के दौरान गैस निकलती है जो आप शरीर से बाहर कर देते हैं। अगर ये गैस आँतों का हिस्सा बनने लगे तो इसका मतलब है कि कुछ गड़बड़ है जो काफी घातक है। ऐसे में आइए आपको बताते हैं उन लक्षणों के बारे में जिनके माध्यम से आप ये जान सकते हैं कि आपको आँतों में गैस से जुड़ी समस्या है या नहीं।

आंतों में गैस के लक्षण

चुभन, दर्द और उल्टी होना

अगर आपके पेट के पास के क्षेत्र में चुभन होती है और साथ में दर्द और उल्टी की भावना भी उत्पन्न होती है तो ये आँतों में गैस होने का सबसे बड़ा लक्षण है। आप अपने पेट और आंत को दिक्क्त में नहीं लाना चाहेंगे क्योंकि ये परेशानी को बढ़ावा देने वाली चीजें हैं जिनसे बचाव बेहद जरूरी है।

ये भी पढ़ें: शरीर पर लाल चकत्ते का घरेलू इलाज: Shareer Par Laal Chakatte Ka Gharelu Ilaaj

सर में बेवजह दर्द

इस बात को आप जानते होंगे कि शरीर में गैस कहीं भी जा सकती है लेकिन उसके लिए सबसे आसान स्थान होता है आपका सर क्योंकि वो बिना किसी रूकावट के उसी नली के माध्यम से पहुँच जाती है जिससे आपने भोजन को पाचन के लिए भेजा होता है। इसकी वजह से सर में दर्द होता है और कई बार होता है।

आलस महसूस करना और मितली आना

आलस महसूस कर रहे हैं और मितली वाली भावनाएं भी आ रही हैं तो ये आँतों में गैस होने का एक लक्षण है। आपने ये बात गौर की होगी कि जब किसी इंसान को पेट में दिक्कत होती है तो वो पेट को दबाता है लेकिन इसके साथ साथ वो आँतों को भी दबाता है जिसकी वजह से आपको गैस का प्रभाव कम होते हुए नहीं दिखता है।

ये भी पढ़ें: एलर्जी वाली खांसी का इलाज: Allergy Wali Khaansi Ka Ilaaj

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment