सोते समय बेचैनी होना हो सकती है इन रोगों का लक्षण - Restlessness During Sleep Happens Due To These Diseases

सोते समय बेचैनी होना हो सकती है इन रोगों का लक्षण (फोटो - sportskeedaहिंदी)
सोते समय बेचैनी होना हो सकती है इन रोगों का लक्षण (फोटो - sportskeedaहिंदी)

रात में सोते समय या बीच में नींद टूट जाने का कारण यदि बेचैनी होना हो तो यह कई बीमारियों का संकेत हो सकता है। इसे नज़रअंदाज़ करना गलत होगा। अगर ये समस्या लंबे समय तक बनी रहती है तो, ये हाई बीपी, मानसिक बीमारियों और दिल की बीमारियों का कारण बन सकता है। बेचैनी होना कौन से रोगों का लक्षण है, यह इस लेख के माध्यम से आप जान पाएंगे। इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए अंत तक पढ़ें।

सोते समय बेचैनी होना हो सकती है इन रोगों का लक्षण - Restlessness During Sleep Happens Due To These Diseases In Hindi

एंग्जायटी अटैक (Anxiety attack)

एंग्जायटी की शिकायत होने पर भी रात को बेचैनी होती है। एंग्जायटी अटैक के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। कुछ लोग एंग्जायटी के हल्के लक्षण महसूस करते हैं, जबकि कुछ लोगों को इसके अन्य खतरनाक लक्षण दिख सकते हैं।

स्लीप एपनिया (Sleep Apnea)

रात को बेचैनी होने का एक कारण स्लीप एपनिया भी हो सकता है। स्लीप एपनिया रात को सोते समय सांस ना ले पाने की बीमारी होती है। सोते समय बेचैनी स्लीप एपनिया का लक्षण हो सकती है। ऐसे में वजन कम करने, आहार में बदलाव करने और अधिक व्यायाम करने से स्लीप एपनिया का सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है। इससे आपको रात में बेचैनी भी नहीं होगी।

हृदय संबंधित समस्या (Heart related problem)

रात में बेचैनी होना दिल का दौरा पड़ने, स्ट्रोक और धड़कनो का धीमा होने के लक्षणों में से एक है। हृदय संबंधित समस्याओं में बेचैनी होना आम है। ऐसा महसूस होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हार्मोंस में उतार-चढ़ाव (Hormonal imbalance)

हार्मोनल डिसबैलेंस के कारण भी आपको सोते समय बेचैनी हो सकती है। गर्भावस्था से लेकर मीनोपॉज तक, महिलाओं के हार्मोन नींद की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसके कारण महिलाओं को रात को बेचैनी होना, पसीना, बार-बार पेशाब आना और नींद ना आने की समस्या होती है।

ब्लड प्रेशर का अस्थिर होना (Unstable blood pressure)

ब्लड प्रेशर का कम होने पर बेचैनी महसूस की जाती है। शरीर में खून का बराबर मात्रा में दौड़ना ज़रूरी होता है, ऐसा ना होने पर हृदय संबंधित समस्याओं को बढ़ावा मिल सकता है। बेचैनी के साथ चक्कर आना भी ब्लड प्रेशर में आम है।

तनाव (Stress)

तनाव के कारण भी आपको रात में बेचैनी हो सकती है। लाइफस्टाइल में बदलाव के कारण भी तनाव होता है। जब आप लगातार सोचते हैं तो आपका दिमाग शांत नहीं होता और ऐसे में तनाव बढ़ सकता है। इससे आप सो नहीं पाते और आपको रात भर बेचैनी महसूस हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment