Create

तिल का तेल गर्म होता है या ठंडा: Til ka tel garam hota hai ya thanda

फोटो: Patrika
फोटो: Patrika

तिल का तेल आपने कई बार अपने घरों में देखा होगा। इसका इस्तेमाल कई बार या यूँ कहें कि अमूमन पूजा के लिए किया जाता है पर बड़ा सवाल ये है कि क्या ये तेल इंसान के लिए इस्तेमाल करने योग्य है? अगर आपके मन में ये सवाल है कि क्या इसे इंसान इस्तेमाल कर सकते हैं तो इसका जवाब ये है कि हाँ इसे इंसान इस्तेमाल कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: एक दिन में कितना चुकंदर खाना चाहिए: Ek din mein kitna chukandar khaana chahiye

इसका इस्तेमाल मसाज के लिए किया जाता है। इसके साथ साथ इसका इस्तेमाल अन्य कई चीजों में भी किया जाता है। आप खुद का ध्यान रखें और अपनी परेशानी को बढ़ने ना दें। ऐसा इसलिए क्योंकि मौजूदा समय में मिलने वाला हर सामान परेशानी का कारण बन सकता है। खुद की सुरक्षा करके आप कई लोगों की सुरक्षा कर रहे होते हैं।

ऐसे में कई लोग इस बात के बारे में भी सोच रहे होंगे कि क्या तेल गर्म होता है या ठंडा। क्या इसका इस्तेमाल किसी भी समय किया जा सकता है या इसका इस्तेमाल कुछ समय पर ही किया जा सकता है? इन सभी बातों के बारे में हम आपको बताने वाले हैं जिससे आपको बेहद फायदा होगा।

तिल का तेल गर्म होता है या ठंडा

गर्म होता है तिल का तेल

तिल का तेल गर्म होता है इसलिए इसका इस्तेमाल गर्मी में ना करें या अगर करना ही पड़े तो बेहद संभलकर करें। गर्मी में गर्म तेल का इस्तेमाल शरीर को परेशानी में ड़ाल सकता है। ऐसे में अपनी सेहत का ध्यान रखें और ऐसी कोई भी गलती ना करें जिससे आपकी सेहत को नुकसान हो।

ये भी पढ़ें: आंखों के नीचे डार्क सर्कल हटाने के 3 घरेलू उपाय: Aankhon ke neeche dark circle hatane ke 3 gharelu upaay

हड्डियों को करे मजबूत

तांबा, जस्ता और कैल्शियम होने के कारण ये तेल हड्डियों को लाभ पहुँचाता है। अगर आपकी उम्र काफी हो चली है तो ये आपको लाभ देगा। हड्डियों में अमूमन दर्द बढ़ती हुई उम्र में देखने को मिलता है। आप खुद के लिए कोई परेशानी नहीं चाहेंगे और इसलिए तिल के तेल का इस्तेमाल जरूर करें।

डिप्रेशन ठीक करने में मददगार

टायरोसीन होने पर आपका दिमाग अच्छा महसूस करता है और आप खुश रहते हैं। ऐसे में तिल का तेल आपकी मदद कर सकता है और आपके शरीर में सेरोटोनिन एवं टायरोसीन की मात्रा को बढ़ा देता है। इससे सेहत को लाभ होता है जो एक अच्छी बात है और आपको इसका इस्तेमाल इस स्थिति में जरूर करना चाहिए।

ये भी पढ़ें: बकरी का दूध कच्चा पीना चाहिए या गर्म करके: Bakri ka doodh kaccha peena chahiye ya garm karke

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment